Breaking :
||मनिका: करोड़ों की लागत से हो रहे सड़क निर्माण में धांधली, बालू की जगह डस्ट से हो रही ढलाई||पड़ताल: गांव के दबंग ने ज़बरन रुकवाया PM आवास का निर्माण, 4 सालों से सरकारी बाबुओं के कार्यालय का चक्कर लगा रहा पीड़ित परिवार||लातेहार: बंद पड़े अभिजीत पावर प्लांट के सुरक्षा गार्ड की संदेहास्पद मौत, जांच जारी||गढ़वा: पड़ोसी युवक के साथ भागी दो बच्चों की मां, बंधक बनाकर पीटा||भूख हड़ताल पर बैठे पारा मेडिकल कर्मियों की तबीयत बिगड़ी, भेजा अस्पताल||Good News: झारखंड में मरीजों के लिए जल्द शुरू होगी एयर एंबुलेंस की सुविधा, मुख्यमंत्री ने किया ऐलान||लातेहार: मनिका बालक मध्य विद्यालय में हुई चोरी मामले का खुलासा, तीन गिरफ्तार, चोरी का सामान बरामद||चतरा में सुरक्षाबलों से नक्सलियों की मुठभेड़, एक नक्सली ढेर, देखें तस्वीर||झारखंड: मूर्ति विसर्जन के दौरान दो गुटों में हिंसक झड़प, दर्जनों लोग घायल, तनाव||धनबाद: हजारा अस्पताल में लगी भीषण आग, दम घुटने से डॉक्टर दंपती समेत 5 की मौत

मंत्री सत्यानंद भोक्ता का बड़ा ऐलान, झारखंड होगा सूखाग्रस्त घोषित..

विधानसभा सत्र में हेमंत सरकार कर सकती है घोषणा

चतरा : झारखंड सरकार के श्रम, योजना एवं प्रशिक्षण सह कौशल विकास मंत्री सत्यानंद भोगता ने कहा है कि झारखंड में बारिश से स्थिति भयावह है। बारिश नहीं होने के कारण पूरा राज्य इस समय सूखे की चपेट में है। हेमंत सोरेन सरकार ने सूखे से निपटने की तैयारी शुरू कर दी है। बहुत जल्द इसकी घोषणा की जाएगी। मंत्री सत्यानंद भोगता ने मंगलवार को चतरा में पत्रकारों से बातचीत में उक्त बातें कहीं।

मंत्री ने कहा कि कृषि अर्थव्यवस्था की रीढ़ है। सरकार किसानों के हितों की रक्षा के लिए तैयार है। किसानों को पलायन नहीं करने दिया जाएगा। झारखंड के किसान बारिश की मदद से साल में एक बार ही धान की खेती कर पाते हैं। यही उनकी आजीविका का मुख्य साधन है। इस बार बारिश नहीं होने के कारण धान की खेती नहीं हो पा रही है। इसको लेकर किसान काफी परेशान हैं। इस समस्या को लेकर हेमंत सोरेन सरकार भी चिंतित है। सरकार किसानों की परेशानी समझ रही है। इसलिए सरकार जल्द ही झारखंड को सूखाग्रस्त राज्य घोषित करेगी।

मंत्री ने कहा कि सरकार प्राथमिकता के आधार पर समस्याओं का समाधान कर रही है. मौजूदा हालात में सबसे बड़ी चुनौती सूखे से निपटना है। वैसे पूरे राज्य में सामान्य से कम बारिश हो रही है। लेकिन उत्तरी छोटानागपुर और पलामू प्रमंडल में स्थिति सबसे खराब है। मंत्री ने कहा कि मानसून सत्र 28 जुलाई से शुरू हो रहा है। विधानसभा के इस सत्र में सरकार किसानों के लिए बड़ा ऐलान कर सकती है।