Breaking :
||बंद औद्योगिक इकाइयों को पुनर्जीवित करेगी राज्य सरकार : मुख्यमंत्री||आर्थिक तंगी के कारण कोई भी छात्र उच्च एवं तकनीकी शिक्षा से न रहे वंचित: मुख्यमंत्री||झारखंड में मानसून की आहट, भारी बारिश का अलर्ट जारी||बड़गाईं जमीन घोटाले में ED की बड़ी कार्रवाई, जमीन कारोबारी के ठिकाने से एक करोड़ कैश और गोलियां बरामद||पेयजल एवं स्वच्छता विभाग के सेक्शन अधिकारी समेत दो रिश्वत लेते गिरफ्तार||सतबरवा में कपड़ा व्यवसायी के बेटे और बेटी के अपहरण का प्रयास विफल, लातेहार की ओर से आये थे अपहरणकर्ता||लातेहार: एनडीपीएस एक्ट के दोषी को 15 वर्ष का कठोर कारावास और 1.5 लाख रुपये का जुर्माना||लातेहार सिविल कोर्ट में आपसी सहमति से प्रेमी युगल ने रचायी शादी||लातेहार: किड्जी प्री स्कूल के बच्चों ने अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर किया योगाभ्यास||किसानों की समृद्धि से राज्य की अर्थव्यवस्था को मिलेगी मजबूती : मुख्यमंत्री
Saturday, June 22, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

नये साल का जश्न: शराब पीकर हंगामा करने वाले हो जायें सावधान, पुलिस ब्रेथ एनालाइजर के साथ है तैयार

रांची : राजधानी रांची में नये साल के जश्न के दौरान शराब पीकर हंगामा करने वालों की अब खैर नहीं है। सड़क दुर्घटनाओं पर नियंत्रण के लिए इस बार रांची ट्रैफिक पुलिस ने सभी पिकनिक स्पॉट के साथ-साथ सेलिब्रेशन एरिया में ड्रंक एंड ड्राइव के खिलाफ अभियान चलाने का निर्देश जारी किया है। 22 दिसंबर से 15 फरवरी तक ब्रीथ एनालाइजर टेस्ट के लिए ट्रैफिक कर्मी ड्यूटी पर रहेंगे।

रांची में हर वर्ष नवंबर माह से लेकर दूसरे वर्ष फरवरी माह तक सड़क दुर्घटनाओं में बेतहाशा वृद्धि होती है। इसके पीछे सबसे प्रमुख वजह जो अब तक निकल कर सामने आई है वह ड्रंक एंड ड्राइव है। क्रिसमस से लेकर नये साल के फरवरी महीने तक पिकनिक के साथ-साथ अलग-अलग डेस्टिनेशन पर पार्टियों का आयोजन होता है। ऐसी पार्टियों में जमकर शराब पी जाती है। शराब पीने के बाद जब युवा अपने घरों की तरफ लौटते हैं तब वे हादसे का शिकार हो जाते हैं।

रांची डीटीओ कार्यालय से मिले हादसों के आंकड़े बेहद चिंताजनक है। दिसंबर, 2022 में कुल 64 सड़क हादसे हुए, जिनमें 44 लोगों की मौत हो गई थी जबकि 38 लोग बुरी तरह से जख्मी हुए। जनवरी में 64 हादसे सामने आये, जिसमें 41 लोगों की मौत हो गयी और 35 बुरी तरह से जख्मी हुए। फरवरी महीने में 38 लोग सड़क हादसे में मौत के गाल में समा गये। कुल मिलाकर देखा जाये तो मात्र 70 दिनों में 121 लोग सड़क हादसों में अपनी जान गंवा दी।

आकड़ों के अनुसार सड़क हादसों में मरने वाले सबसे ज्यादा युवा हैं। इनकी उम्र 18 से 30 के बीच है। बिना हेलमेट सवारी, तेज रफ्तार, शराब और ईयर बर्ड-हेडफोन का इस्तेमाल हादसों की प्रमुख वजह है। साल 2021 में सड़क हादसों में जहां 448 लोगों ने अपनी जान गंवाई थी, वहीं साल 2022 में कुल 450 लोग सड़क हादसे में मारे गये।

इस संबंध में रांची के ट्रैफिक एसपी कुमार गौरव ने बताया कि पिछले साल के आंकड़ों को देखकर यह साफ पता चलता है कि नवंबर महीने से लेकर फरवरी महीने तक सड़क हादसे बहुत ज्यादा सामने आते हैं। इन सब के पीछे ड्रंक एंड ड्राइव बड़ी वजह है। साथ ही कोहरा भी एक बड़ी वजह है। ट्रैफिक एसपी के अनुसार ड्रंक एंड ड्राइव को रोकने के लिए पिकनिक स्पॉट के बाहर चेक पोस्ट बना कर ब्रेथ एनालाइजर से चेकिंग की जायेगी। शहरी क्षेत्र में भी ड्रंक एंड डाइव को लेकर विशेष अभियान चलाया जायेगा।

Ranchi Police drunk drive