Breaking :
||राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू 28 फरवरी को आयेंगी रांची, सुरक्षा के रहेंगे कड़े इंतजाम||झारखंड: अश्लील वीडियो वायरल करने की धमकी देकर युवती से किया दुष्कर्म, धर्म परिवर्तन कराकर जबरन करा दी शादी||लातेहार: बालूमाथ में लोडेड देशी पिस्टल के साथ दो युवक गिरफ्तार, कार जब्त||पीएम मोदी ने समुद्र में लगायी डुबकी, जलमग्न कृष्ण की नगरी द्वारका को देखा||लातेहार: बारियातू में ऑटो चालक की गोली मारकर हत्या, विरोध में सड़क जाम||लातेहार जिले के विकास के लिए किसी के पास कोई रोडमैप नहीं, अधिकारी भी नहीं रहना चाहते यहां: सुदेश महतो||झारखंड में अधिकारियों के तबादले में चुनाव आयोग के निर्देशों का नहीं हुआ पालन, मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने लिखा पत्र||पलामू: बाइक सवार अपराधियों ने व्यवसायी को मारी गोली, पत्नी ने गोतिया परिवार पर लगाया आरोप||पलामू: ट्रैक्टर की चपेट में आने से बाइक सवार इंटर के परीक्षार्थी की मौत||पलामू DAV के बच्चों की बस बिहार में पलटी, दर्जनों छात्र घायल
Monday, February 26, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

नये साल का जश्न: शराब पीकर हंगामा करने वाले हो जायें सावधान, पुलिस ब्रेथ एनालाइजर के साथ है तैयार

रांची : राजधानी रांची में नये साल के जश्न के दौरान शराब पीकर हंगामा करने वालों की अब खैर नहीं है। सड़क दुर्घटनाओं पर नियंत्रण के लिए इस बार रांची ट्रैफिक पुलिस ने सभी पिकनिक स्पॉट के साथ-साथ सेलिब्रेशन एरिया में ड्रंक एंड ड्राइव के खिलाफ अभियान चलाने का निर्देश जारी किया है। 22 दिसंबर से 15 फरवरी तक ब्रीथ एनालाइजर टेस्ट के लिए ट्रैफिक कर्मी ड्यूटी पर रहेंगे।

रांची में हर वर्ष नवंबर माह से लेकर दूसरे वर्ष फरवरी माह तक सड़क दुर्घटनाओं में बेतहाशा वृद्धि होती है। इसके पीछे सबसे प्रमुख वजह जो अब तक निकल कर सामने आई है वह ड्रंक एंड ड्राइव है। क्रिसमस से लेकर नये साल के फरवरी महीने तक पिकनिक के साथ-साथ अलग-अलग डेस्टिनेशन पर पार्टियों का आयोजन होता है। ऐसी पार्टियों में जमकर शराब पी जाती है। शराब पीने के बाद जब युवा अपने घरों की तरफ लौटते हैं तब वे हादसे का शिकार हो जाते हैं।

रांची डीटीओ कार्यालय से मिले हादसों के आंकड़े बेहद चिंताजनक है। दिसंबर, 2022 में कुल 64 सड़क हादसे हुए, जिनमें 44 लोगों की मौत हो गई थी जबकि 38 लोग बुरी तरह से जख्मी हुए। जनवरी में 64 हादसे सामने आये, जिसमें 41 लोगों की मौत हो गयी और 35 बुरी तरह से जख्मी हुए। फरवरी महीने में 38 लोग सड़क हादसे में मौत के गाल में समा गये। कुल मिलाकर देखा जाये तो मात्र 70 दिनों में 121 लोग सड़क हादसों में अपनी जान गंवा दी।

आकड़ों के अनुसार सड़क हादसों में मरने वाले सबसे ज्यादा युवा हैं। इनकी उम्र 18 से 30 के बीच है। बिना हेलमेट सवारी, तेज रफ्तार, शराब और ईयर बर्ड-हेडफोन का इस्तेमाल हादसों की प्रमुख वजह है। साल 2021 में सड़क हादसों में जहां 448 लोगों ने अपनी जान गंवाई थी, वहीं साल 2022 में कुल 450 लोग सड़क हादसे में मारे गये।

इस संबंध में रांची के ट्रैफिक एसपी कुमार गौरव ने बताया कि पिछले साल के आंकड़ों को देखकर यह साफ पता चलता है कि नवंबर महीने से लेकर फरवरी महीने तक सड़क हादसे बहुत ज्यादा सामने आते हैं। इन सब के पीछे ड्रंक एंड ड्राइव बड़ी वजह है। साथ ही कोहरा भी एक बड़ी वजह है। ट्रैफिक एसपी के अनुसार ड्रंक एंड ड्राइव को रोकने के लिए पिकनिक स्पॉट के बाहर चेक पोस्ट बना कर ब्रेथ एनालाइजर से चेकिंग की जायेगी। शहरी क्षेत्र में भी ड्रंक एंड डाइव को लेकर विशेष अभियान चलाया जायेगा।

Ranchi Police drunk drive