Breaking :
||लातेहार: मनिका में सड़क निर्माण स्थल पर उग्रवादियों का हमला, JCB मशीन में लगायी आग||वेतन नहीं मिलने से नहीं हुआ बेहतर इलाज, गढ़वा में DRDA कर्मी की मौत||लातेहार: हेरहंज में पेड़ से गिरकर युवक की मौत, परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल||लातेहार: सड़क दुर्घटना में घायल महिला की इलाज के दौरान मौत, मुआवजे की मांग को लेकर सड़क जाम||लातेहार: महुआडांड में आदिवासी महिला से दुष्कर्म के बाद बनाया वीडियो, वायरल करने व जान से मारने की धमकी||लातेहार: चंदवा पुलिस ने अभिजीत पावर प्लांट से लोहा चोरी कर ले जा रहे पिकअप को पकड़ा, एक गिरफ्तार||लातेहार: महुआडांड़ में बस और बाइक की जोरदार टक्कर में दो युवकों की मौत, एक गंभीर, देखें तस्वीरें||पलामू: मनरेगा कार्य में लापरवाही बरतने के आरोप में दो जेई सेवामुक्त, एक पर कानूनी कार्रवाई करने का निर्देश||हेमंत सरकार पर जमकर बरसे अमित शाह, उखाड़ फेंकने का आह्वान||NDA प्रत्याशी सुनीता चौधरी ने किया नामांकन, बोले सुदेश हेमंत सरकार में व्याप्त भ्रष्टाचार, झूठ और वादों को तोड़ने के मुद्दे पर होगा चुनाव

झारखंड: प्रमाण पत्र सत्यापन नहीं कराने वाले सहायक अध्यापक होंगे कार्यमुक्त

रांची : राज्य सरकार ने ऐसे सहायक शिक्षकों को कार्यमुक्त करने की तैयारी कर ली है जो अपने प्रमाणपत्रों के सत्यापन में सहयोग नहीं कर रहे हैं। झारखंड शिक्षा परियोजना परिषद, झारखंड ने भी इस संबंध में सूचना जारी की है।

परिषद की राज्य परियोजना निदेशक किरण कुमारी पासी ने कहा है कि वर्तमान में समग्र शिक्षा के तहत प्रदेश में कई सहायक अध्यापक कार्यरत हैं। सहायक अध्यापक सेवा शर्त नियमावली 2021 के आलोक में इनके शैक्षणिक, प्रशिक्षण एवं शिक्षक पात्रता परीक्षा प्रमाण पत्रों के सत्यापन का कार्य अभी भी जारी है।

रांची की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

शिक्षकों को अपने जिले के जिला परियोजना कार्यालय से संपर्क कर 5 दिसंबर तक अपने सभी प्रमाणपत्रों के सत्यापन के लिए कहा गया है। इस तिथि का पालन नहीं करने वाले शिक्षकों को 31 दिसंबर 2022 तक कार्य से मुक्त कर दिया जायेगा।

परियोजना निदेशक के मुताबिक 5 दिसंबर तक सहायक शिक्षकों को अपने जरूरी प्रमाण पत्र संबंधित जिला परियोजना कार्यालय में जमा कराने होंगे। यदि वे ऐसा नहीं करते हैं तो यह माना जायेगा कि उनका शैक्षणिक, प्रशिक्षण एवं शिक्षक पात्रता परीक्षा पास प्रमाण पत्र अनियमित है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

उनके पास वैध योग्यता नहीं है। ऐसे में पांच दिसंबर के बाद उनके खिलाफ विभागीय कार्रवाई की जायेगी। इस साल के अंत तक उनके खिलाफ कार्रवाई की जायेगी और उन्हें ड्यूटी से मुक्त कर दिया जायेगा।

इसके बाद वे अपनी सर्विस नहीं दे पायेंगे। साथ ही जनवरी 2023 से उनके मानदेय का भुगतान नहीं किया जायेगा।