Breaking :
||लातेहार जिले के विकास के लिए किसी के पास कोई रोडमैप नहीं, अधिकारी भी नहीं रहना चाहते यहां: सुदेश महतो||झारखंड में अधिकारियों के तबादले में चुनाव आयोग के निर्देशों का नहीं हुआ पालन, मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने लिखा पत्र||पलामू: बाइक सवार अपराधियों ने व्यवसायी को मारी गोली, पत्नी ने गोतिया परिवार पर लगाया आरोप||पलामू: ट्रैक्टर की चपेट में आने से बाइक सवार इंटर के परीक्षार्थी की मौत||पलामू DAV के बच्चों की बस बिहार में पलटी, दर्जनों छात्र घायल||पलामू: पिछले 13 माह में सड़क दुर्घटना में 225 लोगों की मौत पर उपायुक्त ने जतायी चिंता||सदन की कार्यवाही सोमवार सुबह 11 बजे तक के लिए स्थगित||JSSC परीक्षा में गड़बड़ी मामले की CBI जांच कराने की मांग को लेकर विधानसभा गेट पर भाजपा विधायकों का प्रदर्शन||लातेहार: 10 लाख के इनामी JJMP जोनल कमांडर मनोहर और एरिया कमांडर दीपक ने किया सरेंडर||युवक ने थाने की हाजत में लगायी फां*सी, परिजनों ने लगाया हत्या का आरोप
Sunday, February 25, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

JSSC-CGL पेपर लीक मामले में विधानसभा के अवर सचिव मो शमीम दो बेटों के साथ गिरफ्तार

JSSC Paper Leak Case

रांची : झारखंड सामान्य स्नातक योग्यताधारी संयुक्त प्रतियोगिता परीक्षा-2023 (जेएसएससी) पेपर लीक मामले में रांची पुलिस की एसआईटी ने झारखंड विधानसभा के एक अवर सचिव और उसके दो बेटों को गिरफ्तार किया है। इनके पास से कागजात और ब्लैंक चेक बरामद हुए हैं।

जानकारी के मुताबिक मामले की जांच कर रही एसआईटी को झारखंड विधानसभा के अवर सचिव मो. शमीम के बारे में यह पुख्ता जानकारी मिली थी कि वह और उसके दो बेटे पेपर लीक मामले में संलिप्त हैं। इसके बाद एसआईटी उनपर लगातार नजर रखे हुए थी। सूचना कन्फर्म होने पर एसआईटी ने शमीम के ठिकानों पर एक साथ छापेमारी की। छापेमारी के दौरान शमीम के ठिकानों से कई अभ्यर्थियों के द्वारा दिये गये ब्लैंक चेक, दर्जनों एडमिट कार्ड के साथ-साथ कई मोबाइल फोन भी बरामद किए गये हैं।

जेएसएससी की सीजीएल परीक्षा में हुए प्रश्नपत्र लीक मामले की जांच के लिए राज्य सरकार ने एसआईटी का गठन किया है। रांची के सदर डीएसपी संजीव कुमार बेसरा के नेतृत्व में स्पेशल टास्क फोर्स गठित की गयी है। एसआईटी में चार पुलिस निरीक्षक समेत कई पुलिसकर्मी शामिल हैं। रांची एसएसपी ने इससे संबंधित आदेश जारी कर दिया था।

जेएसएससी सीजीएल की परीक्षा 28 जनवरी को हुई थी लेकिन परीक्षा से पहले ही प्रश्न पत्र लीक हो गया था। इस घटना के बाद तत्कालीन सदर डीएसपी के नेतृत्व में एसआईटी बना था लेकिन उनका ट्रांसफर हो जाने के कारण अब फिर से एसआईटी गठन किया गया है। एसआईटी को जल्द से जल्द अभियुक्तों की शिनाख्त और उनकी गिरफ्तारी का आदेश दिया गया है।

इस संबंध में रांची के सीनियर एसपी चंदन कुमार सिन्हा ने बताया कि पेपर लीक मामले में कार्रवाई लगातार जारी है। मामले में झारखंड विधानसभा के अफसर की भूमिका सामने आयी है, उसके खिलाफ कई सबूत भी पुलिस को हासिल हुए हैं। फिलहाल, पूरे नेटवर्क को ध्वस्त करने के लिए छापेमारी अभी भी जारी है। पकड़े गये आरोपियों से लगातार पूछताछ की जा रही है।

JSSC Paper Leak Case