Breaking :
||झारखंड की चार लोकसभा सीटों पर वोटिंग कल, 82 लाख मतदाता करेंगे 93 उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला||पलामू: तत्कालीन एसपी के फर्जी हस्ताक्षर से बने 12 चरित्र प्रमाण पत्र, बड़ा गिरोह सक्रिय||ED की टीम फिर पहुंची आलमगीर आलम के पीएस संजीव लाल के नौकर जहांगीर के घर||झारखंड: ज्वैलर्स शोरूम से दो लाख रुपये नकद समेत 50 लाख के आभूषण की लूट||निशिकांत दुबे के खिलाफ चुनाव आयोग से शिकायत||लातेहार: चुनाव कार्य में लापरवाही बरतने वाले 9 कर्मियों पर प्राथमिकी दर्ज||बंगाल की खाड़ी में बन रहे लो प्रेशर का झारखंड में असर, ऑरेंज अलर्ट जारी, झमाझम बारिश से लोगों को गर्मी से मिली राहत||जेठानी ने देवरानी पर लगाये गंभीर आरोप, कहा- कल्पना सोरेन के इशारे पर मेरी दोनों बेटियों को मारने की थी कोशिश||गढ़वा: JJMP जोनल कमांडर के नाम पर पूर्व विधायक सत्येंद्र नाथ तिवारी को धमकी||छत्तीसगढ़ में पुलिस के साथ मुठभेड़ में फिर मारे गये सात नक्सली
Saturday, May 25, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंड

गुमला: पत्नी ने ही की थी आर्मी के जवान की हत्या, आपसी विवाद में लोहे की रॉड से सिर पर किया था वार

पुलिस को अज्ञात अपराधियों द्वारा हमला किये जाने की सुनाई मनगढंत कहानी

गुमला : गुमला पुलिस ने सेना के जवान परना उरांव हत्याकांड का उद्भेदन करते हुए शुक्रवार को उसकी पत्नी बुधेश्वरी देवी और विनय लकड़ा को गिरफ्तार कर गुमला जेल भेज दिया है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

प्रेस वार्ता में एसडीपीओ मनीष चंद्र लाल व इंस्पेक्टर मनोज कुमार ने संयुक्त रूप से हत्याकांड का खुलासा किया। उन्होंने बताया कि 11 जनवरी की रात सदर थाना क्षेत्र के खोरा जामटोली गांव में सेना के जवान परना उरांव और उसकी पत्नी बुधेश्वरी देवी के बीच विवाद हो गया। इस दौरान बुधेश्वरी देवी ने लोहे की रॉड से परना उरांव के सिर पर वार कर दिया। वह परिजनों की मदद से परना उरांव को अस्पताल ले जाने लगी लेकिन रास्ते में ही उसकी मौत हो गयी।

बुधेश्वरी देवी ने गुरुवार को गुमला थाने में अज्ञात अपराधियों द्वारा हमला किये जाने की मनगढ़ंत कहानी बनाकर मामला दर्ज कराया। पुलिस की जांच में मामला सामने आया। पुलिस ने हत्या में प्रयुक्त लोहे की रॉड भी बरामद कर ली है। उसके इकबालिया बयान में मदद करने के आरोप में गांव के ही एक युवक विनय लकड़ा को भी गिरफ्तार किया गया है।

पुलिस अधिकारियों ने बताया कि परना उरांव कुछ दिन बाद सेवानिवृत्त होने वाले थे। सेवानिवृत्ति के बाद वह गांव में ही रहने की योजना बना रहा था। लेकिन पत्नी बुधेश्वरी देवी उनके साथ नहीं रहना चाहती थीं। घटना वाली रात जब इसी बात को लेकर दोनों में झगड़ा हुआ तो बुधेश्वरी देवी ने अपने पति परना उरांव को हमेशा के लिए रास्ते से हटा दिया।