Breaking :
||लातेहार: बूढ़ा पहाड़ इलाके में नक्सलियों द्वारा छिपाये गये अत्याधुनिक हथियार व अन्य सामान बरामद||रांची हिंसा मामले में डीसी ने 11 आरोपियों पर मुकदमा चलाने की मांगी अनुमति||धनबाद आशीर्वाद टावर फायर मामले में हाई कोर्ट ने लिया स्वत: संज्ञान, सरकार से पूछा- अबतक क्या की गयी कार्रवाई||चाईबासा: IED ब्लास्ट में एक बार फिर तीन जवान घायल, एयरलिफ्ट कर लाया गया रांची||लातेहार: बालूमाथ में सड़क हादसे में घायल युवक की इलाज के दौरान मौत, 17 फरवरी को होनी थी शादी||तैयारी में जुटे छात्र ध्यान दें: झारखंड कर्मचारी चयन आयोग ने एक दर्जन प्रतियोगी परीक्षाओं के विज्ञापन किये रद्द||झारखंड में मैट्रिक और इंटरमीडिएट की परीक्षाओं की तिथि घोषित, जानिये…||लातेहार: अज्ञात अपराधियों ने नावागढ़ गांव में की गोलीबारी, पुलिस कर रही जांच||धनबाद आशीर्वाद टावर अग्निकांड: दीये की लौ ने लिया शोला का रूप, 10 महिलाओं समेत 16 ज़िंदा जले||31 जनवरी से सात फरवरी तक आम लोगों के लिए खुला राजभवन गार्डन

गुमला: पत्नी ने ही की थी आर्मी के जवान की हत्या, आपसी विवाद में लोहे की रॉड से सिर पर किया था वार

पुलिस को अज्ञात अपराधियों द्वारा हमला किये जाने की सुनाई मनगढंत कहानी

गुमला : गुमला पुलिस ने सेना के जवान परना उरांव हत्याकांड का उद्भेदन करते हुए शुक्रवार को उसकी पत्नी बुधेश्वरी देवी और विनय लकड़ा को गिरफ्तार कर गुमला जेल भेज दिया है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

प्रेस वार्ता में एसडीपीओ मनीष चंद्र लाल व इंस्पेक्टर मनोज कुमार ने संयुक्त रूप से हत्याकांड का खुलासा किया। उन्होंने बताया कि 11 जनवरी की रात सदर थाना क्षेत्र के खोरा जामटोली गांव में सेना के जवान परना उरांव और उसकी पत्नी बुधेश्वरी देवी के बीच विवाद हो गया। इस दौरान बुधेश्वरी देवी ने लोहे की रॉड से परना उरांव के सिर पर वार कर दिया। वह परिजनों की मदद से परना उरांव को अस्पताल ले जाने लगी लेकिन रास्ते में ही उसकी मौत हो गयी।

बुधेश्वरी देवी ने गुरुवार को गुमला थाने में अज्ञात अपराधियों द्वारा हमला किये जाने की मनगढ़ंत कहानी बनाकर मामला दर्ज कराया। पुलिस की जांच में मामला सामने आया। पुलिस ने हत्या में प्रयुक्त लोहे की रॉड भी बरामद कर ली है। उसके इकबालिया बयान में मदद करने के आरोप में गांव के ही एक युवक विनय लकड़ा को भी गिरफ्तार किया गया है।

पुलिस अधिकारियों ने बताया कि परना उरांव कुछ दिन बाद सेवानिवृत्त होने वाले थे। सेवानिवृत्ति के बाद वह गांव में ही रहने की योजना बना रहा था। लेकिन पत्नी बुधेश्वरी देवी उनके साथ नहीं रहना चाहती थीं। घटना वाली रात जब इसी बात को लेकर दोनों में झगड़ा हुआ तो बुधेश्वरी देवी ने अपने पति परना उरांव को हमेशा के लिए रास्ते से हटा दिया।