Breaking :
||झारखंड में पांचवें चरण का चुनाव शांतिपूर्ण संपन्न, आचार संहिता उल्लंघन के सात मामले दर्ज||लातेहार में शांतिपूर्ण माहौल में मतदान संपन्न, 65.24 फीसदी वोटिंग||झारखंड में गर्मी से मिलेगी राहत, गरज के साथ बारिश के आसार, येलो अलर्ट जारी||चतरा, हजारीबाग और कोडरमा संसदीय क्षेत्र में मतदान कल, 58,34,618 मतदाता करेंगे 54 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला||चतरा लोकसभा: भाजपा और कांग्रेस के बीच सीधी टक्कर, फैसला जनता के हाथ||भाजपा की मोटरसाइकिल रैली पर पथराव, कार्यकर्ताओं के साथ मारपीट, कई घायल||झारखंड की तीन लोकसभा सीटों पर चुनाव प्रचार थमा, 20 मई को वोटिंग||पिता के हत्यारे बेटे की निशानदेही पर हत्या में प्रयुक्त बंदूक बरामद समेत पलामू की तीन ख़बरें||चतरा लोकसभा क्षेत्र के नक्सल प्रभावित इलाके में नौ बूथों का स्थान बदला, जानिये||झारखंड हाई कोर्ट में 20 मई से ग्रीष्मकालीन अवकाश
Tuesday, May 21, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंड

माओवादियों की अपील, विश्व आदिवासी दिवस पर करें अत्याचार के खिलाफ संघर्ष

माओवादियों ने विश्व आदिवासी दिवस (9 अगस्त) पर आदिवासियों के जल, जंगल, जमीन, सशक्तीकरण के लिए संघर्ष को ऊंचा रखने और आदिवासियों पर हो रहे अत्याचारों के खिलाफ संघर्ष करने का आह्वान किया है। इस संबंध में प्रतिबंधित नक्सली संगठन भाकपा-माओवादी की केंद्रीय कमेटी के प्रवक्ता अभय ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी किया है।

केंद्र सरकार पर लगाया आरोप

जारी विज्ञप्ति में विश्व आदिवासी दिवस के अवसर पर नए वन संरक्षण नियम के विरोध में दंडकारण्य और बिहार-झारखंड में आदिवासी लोगों के संघर्ष के समर्थन में कार्यक्रम आयोजित करने की अपील की गई है। अभय ने आरोप लगाया है कि केंद्र और राज्य सरकार की गलत नीति के तहत आदिवासियों की जमीन उनसे छीनी जा रही है।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

भाकपा-माओवादी केंद्रीय कमेटी के प्रवक्ता अभय ने कहा है कि भाजपा ने ऐसे समय में ओडिशा की द्रौपदी मुर्मू को भारत का राष्ट्रपति बनाया है जब देश इसे खत्म करने की प्रक्रिया में है। राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार की घोषणा के बाद भाजपा ने नया वन संरक्षण नियम अलोकतांत्रिक और संविधान के खिलाफ लाया।

आदिवासी जनता गिरिडीह जिले के पर्वतपुर गांव के पास, छत्तीसगढ़ राज्य के बिजानूर, सुकमा जिले के सिलिंगर और अन्य स्थानों पर लगाए गए पुलिस कैम्पों के खिलाफ लड़ रहे हैं।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

केंद्र और राज्य सरकार की गलत नीति के तहत आदिवासी लोगों की जमीनें छीनी जा रही हैं और यह प्रक्रिया देश के कई हिस्सों जैसे ओडिशा में नियमगिरी, महाराष्ट्र के गढ़चिरौली में सुरजागढ़, छत्तीसगढ़ के नारायणपुर में आमदई में की जा रही है। और झारखंड में अन्य स्थानों पर आदिवासी जनता को उनकी जमीन से वंचित किया जा रहा है।