Breaking :
||गुमला में लूटपाट करने आये चार अपराधी हथियार के साथ गिरफ्तार||रांची में वाहन चेकिंग के दौरान भारी मात्रा में कैश बरामद||लोहरदगा में धारदार हथियार से गला रेतकर महिला की हत्या||पलामू समेत झारखंड के इन चार लोकसभा सीटों के लिए 18 से शुरू होगा नामांकन, प्रत्याशी गर्मी की तपिश में बहा रहे पसीना||रामनवमी के दौरान माहौल बिगाड़ने वाले आपत्तिजनक पोस्ट पर झारखंड पुलिस की पैनी नजर, गाइडलाइन जारी||झारखंड: प्रचार करने पहुंचीं भाजपा प्रत्याशी गीता कोड़ा का विरोध, भाजपा और झामुमो कार्यकर्ताओं के बीच झड़प||झारखंड में 20 अप्रैल को जारी होगा मैट्रिक परीक्षा का रिजल्ट||कुर्मी को आदिवासी सूची में शामिल करने की मांग से आदिवासी समाज में आक्रोश, आंदोलन की चेतावनी||लातेहार: सुरक्षा व्यवस्था को लेकर डीसी ने रामनवमी जुलूस निकालने वाले मार्गों का किया निरीक्षण||पलामू: तेज रफ़्तार कार और बाइक की टक्कर में युवक की मौत
Monday, April 15, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरबालूमाथलातेहार

एएनएम ने गर्भपात कराने के नाम पर मांगे 5 हजार रुपये, नहीं देने पर पेशेंट को दो घंटे अस्पताल में ही रोका

शशि भूषण गुप्ता/बालूमाथ

लातेहार : बालूमाथ थाना क्षेत्र के सेरेगड़ा निवासी नरेश शर्मा ने लातेहार उपायुक्त अबु इमरान को आवेदन देकर बालूमाथ सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में कार्यरत एएनएम रीना कुमारी पर गर्भपात कराने के एवज में 5 हजार रुपये मांगने का आरोप लगाया है।

आवेदन में कहां है कि चिकित्सकों के सलाह पर मैं अपनी बेटी का गर्भपात कराने बालूमाथ सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचा। जहां ड्यूटी पर तैनात एएनएम रीना कुमारी प्रसव रूम के अंदर ले गई और अधूरा गर्भपात करने के बाद बाहर आकर कर बोली कि 5000 हजार रुपये दोगे तो पूरा करूंगी अन्यथा छोड़ दूँगी।

आनन-फानन में नरेश शर्मा ने 2 हजार रुपये एएनएम को दिया एवं 1 हजार रुपये और देने की आरजू विनती की।

गर्भपात कराने के बाद एएनएम ने मानवता को शर्मसार करते हुए 1 हजार रुपये की और मांग की। पैसा नहीं देने के एवज में पेशेंट को 2 घंटे अस्पताल में ही रोके रखा।

नरेश शर्मा इसकी शिकायत उपायुक्त को लिखित रूप से कर दी उपायुक्त के निर्देश पर जिला परिवहन पदाधिकारी संतोष कुमार सिंह ने संज्ञान लेते हुए बालूमाथ प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ अशोक ओड़िया को जांच कर अभिलंब जांच प्रतिवेदन सौंपने को कहा है।

इस संबंध में एएनएम रीना कुमारी ने कहा कि मुझे पेसेंट स्वेच्छा से 500 रुपये दिया था। मैंने पैसे की कोई मांग नहीं की।

वही प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ अशोक ओड़िया ने कहा कि जब मैं जांच करने पहुंचा तो मरीज अस्पताल से जा चुका था।

वहीं जिला परिवहन पदाधिकारी संतोष कुमार सिंह ने कहा कि जांच रिपोर्ट आने के बाद दोषियों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *