Breaking :
||झारखंड में पांचवें चरण का चुनाव शांतिपूर्ण संपन्न, आचार संहिता उल्लंघन के सात मामले दर्ज||लातेहार में शांतिपूर्ण माहौल में मतदान संपन्न, 65.24 फीसदी वोटिंग||झारखंड में गर्मी से मिलेगी राहत, गरज के साथ बारिश के आसार, येलो अलर्ट जारी||चतरा, हजारीबाग और कोडरमा संसदीय क्षेत्र में मतदान कल, 58,34,618 मतदाता करेंगे 54 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला||चतरा लोकसभा: भाजपा और कांग्रेस के बीच सीधी टक्कर, फैसला जनता के हाथ||भाजपा की मोटरसाइकिल रैली पर पथराव, कार्यकर्ताओं के साथ मारपीट, कई घायल||झारखंड की तीन लोकसभा सीटों पर चुनाव प्रचार थमा, 20 मई को वोटिंग||पिता के हत्यारे बेटे की निशानदेही पर हत्या में प्रयुक्त बंदूक बरामद समेत पलामू की तीन ख़बरें||चतरा लोकसभा क्षेत्र के नक्सल प्रभावित इलाके में नौ बूथों का स्थान बदला, जानिये||झारखंड हाई कोर्ट में 20 मई से ग्रीष्मकालीन अवकाश
Tuesday, May 21, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंड

परीक्षा में फेल होने पर गुस्साए छात्रों ने शिक्षक व क्लर्क को पेड़ से बांधकर पीटा, वीडियो वायरल

दुमका : गोपीकंदर थाना क्षेत्र के अनुसूचित जनजाति आवासीय विद्यालय का एक वीडियो वायरल हो रहा है। वीडियो में देखा जा सकता है कि कुछ स्कूली बच्चे कुछ लोगों को पेड़ से बांधे हुए हैं। पुलिस ने कहा कि वीडियो में बंधे लोग स्कूल के शिक्षक और क्लर्क हैं। बच्चों ने उन्हें बांधकर पीटा। बच्चों का आरोप है कि स्कूल के शिक्षक ने उन्हें प्रैक्टिकल में कम अंक दिए हैं।

गोपीकंदर थाना क्षेत्र के शासकीय अनुसूचित जनजाति आवासीय विद्यालय के नौवीं कक्षा के 11 छात्रों ने परीक्षा में डीडी ग्रेड प्राप्त किया है। डीडी ग्रेड को फेल के बराबर माना जाता है। पुलिस ने बताया कि नतीजे आने के बाद अनुत्तीर्ण बच्चों ने गुस्सा किया और शिक्षक को पेड़ से बांध दिया।

स्कूल प्रशासन ने अभी तक कोई शिकायत दर्ज नहीं कराई है। गोपीकंदर थाने के थाना प्रभारी नित्यानंद भोक्ता ने पीटीआई-भाषा को बताया कि पुलिस को घटना की सूचना मिलते ही पुलिस ने स्कूल प्रशासन से संपर्क किया। स्कूल के शिक्षकों ने कोई शिकायत करने से इनकार कर दिया।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

स्कूल के शिक्षकों का कहना है कि वे शिकायत कर किसी भी बच्चे का भविष्य खराब नहीं करना चाहते। पुलिस ने बताया कि बंधे हुए शिक्षक का नाम सुमन कुमार और क्लर्क का नाम सोनाराम है। अभी तक शिक्षक और क्लर्क दोनों ने कोई शिकायत नहीं की है।

गोपीकंदर प्रखंड बीडीओ अनंत झा ने बताया कि स्कूल में करीब 200 बच्चे हैं। शिक्षकों को बांधने की घटना में लगभग अधिकांश बच्चे शामिल हैं। बीडीओ ने बताया कि जिस शिक्षक को बांधकर पीटा गया वह पहले विद्यालय का प्रधानाध्यापक था। उन्हें उस पद से हटा दिया गया था।

स्कूल में कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए नौवीं और दसवीं कक्षा को निलंबित कर दिया गया है। बच्चों का आरोप है कि उसके शिक्षक ने जानबूझकर उन्हें कम अंक दिए। उन्होंने क्लर्क को इसलिए बांध दिया क्योंकि क्लर्क ने उनके कम नंबर ऑनलाइन अपलोड कर दिए।

स्कूल प्रबंधन बच्चों के प्रैक्टिकल का नंबर दिखाने में नाकाम रहा। प्रबंधन बच्चों के नंबर अपलोड करने की तारीख भी नहीं बता सका। अभी तक यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि बच्चे थ्योरी में फेल हुए हैं या प्रैक्टिकल में।