Breaking :
||झारखंड एकेडमिक काउंसिल कल जारी करेगा मैट्रिक और इंटर का रिजल्ट||लातेहार: चुनाव प्रशिक्षण में बिना सूचना के अनुपस्थित रहे SBI सहायक पर FIR दर्ज||ED ने जमीन घोटाला मामले में आरोपियों के पास से बरामद किये 1 करोड़ 25 लाख रुपये||झारखंड में हीट वेब को लेकर इन जिलों में येलो अलर्ट जारी, पारा 43 डिग्री के पार||सतबरवा सड़क हादसे में मारे गये दोनों युवकों की हुई पहचान, यात्री बस की चपेट में आने से हुई थी मौत||झारखंड: रामनवमी जुलूस रोके जाने से लोगों में आक्रोश, आगजनी, पुलिस की गाड़ियों में तोड़फोड़, लाठीचार्ज||लातेहार में भीषण सड़क हादसा, दो बाइकों की टक्कर में तीन युवकों की मौत, महिला समेत चार घायल, दो की हालत नाजुक||बड़ी खबर: 25 लाख के इनामी समेत 29 नक्सली ढेर, तीन जवान घायल||पलामू: महुआ चुनकर घर जा रही नाबालिग से भाजपा मंडल अध्यक्ष ने किया दुष्कर्म, आरोपी की तलाश में जुटी पुलिस||झामुमो केंद्रीय समिति सदस्य नज़रुल इस्लाम ने मोदी को जमीन में 400 फीट नीचे गाड़ने की दी धमकी, भाजपा प्रवक्ता ने कहा- इंडी गठबंधन के नेता पीएम मोदी के खिलाफ बड़ी घटना की रच रहे साजिश
Friday, April 19, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरपलामूपलामू प्रमंडल

पलामू: नहर का पानी बंद होने से नाराज झारखंड-बिहार के किसानों ने किया प्रदर्शन, दी आंदोलन की चेतावनी

पलामू : जिले के हरिहरगंज प्रखंड के सुल्तानी गांव के समीप शिवालया कंस्ट्रक्शन कंपनी द्वारा सरसोत मोड़ के समीप फ्लाई ओवर ब्रिज बनाकर बटाने नहर में कंपनी के द्वारा ओपन पुल के जगह नहर में चार ह्यूम पाइप लगा दिया गया है। नहर एनएच-98 पार करके आती है। ह्यूम पाइप लगाए जाने के कारण उसमें गाद एवं मिट्टी जमा हो गयी है, जिससे नहर का जल प्रवाह बाधित हो रहा है और किसानों के खेत तक नहीं पहुंच रहा है। जिससे झारखंड-बिहार के हजारों किसानों में भारी आक्रोश है।

इस समस्या को लेकर गुरुवार को बड़ी संख्या में झारखंड और बिहार के किसानों ने सड़क निर्माण कंपनी के मुख्य गेट पर आंदोलन किया। किसानों ने बताया कि हड़ियाही डैम से सिंचाई हेतु बटाने नहर में निकलने वाला पानी के बहाव में अवरोध आने के कारण झारखंड- बिहार के लगभग 175 गांव सुखाड़ की चपेट में आ गये हैं। किसानों की मांग है कि कंपनी द्वारा लगाये गये ह्यूम पाइप को हटाते हुए वहां पर एक ओपन पुल का निर्माण किया जाये जिससे बटाने नहर का पानी किसानों के खेत तक पहुंच सके।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

मौके पर एनएचएआई के परियोजना निदेशक मनोज कुमार पांडेय तथा कंस्ट्रक्शन कंपनी के अधिकारियों के साथ आंदोलन कर रहे किसानों के एक शिष्टमंडल के बीच वार्ता हुई। किसानों की समस्या 15 दिनों में निदान करने का आश्वासन के बाद आंदोलन स्थगित कर किया गया। किसानों ने मांग पत्र सौंपते हुए मांग नहीं पूरी होने पर दोबारा आंदोलन करने की चेतावनी दी है।

वार्ता में कंपनी के सीनियर प्रोजेक्ट मैनेजर ज्ञान प्रकाश शुक्ला, सीओ वासुदेव राय, पुलिस निरीक्षक सह थाना प्रभारी सुदामा कुमार दास, पिपरा प्रमुख विक्रांत सिंह यादव उर्फ गुड्डू, मुखिया जितेंद्र पासवान, वीरेंद्र यादव, रामपुकार मेहता, सत्येंद्र भुइयां, प्रमोद यादव, दीपक यादव, संजय यादव, सुनील मेहता आदि शामिल थे।

एनएचएआई के परियोजना निदेशक मनोज कुमार पांडेय तथा सीनियर प्रोजेक्ट मैनेजर ज्ञान प्रकाश शुक्ला ने कहा कि सिंचाई के लिए किसानों को असुविधा नहीं होने देंगे। हमें 15 वर्षों तक रहकर कार्य करना है। किसानों की समस्या को संज्ञान में ले लिया गया है जल्द ही समाधान निकाला जायेगा।