Breaking :
||गुमला में लूटपाट करने आये चार अपराधी हथियार के साथ गिरफ्तार||रांची में वाहन चेकिंग के दौरान भारी मात्रा में कैश बरामद||लोहरदगा में धारदार हथियार से गला रेतकर महिला की हत्या||पलामू समेत झारखंड के इन चार लोकसभा सीटों के लिए 18 से शुरू होगा नामांकन, प्रत्याशी गर्मी की तपिश में बहा रहे पसीना||रामनवमी के दौरान माहौल बिगाड़ने वाले आपत्तिजनक पोस्ट पर झारखंड पुलिस की पैनी नजर, गाइडलाइन जारी||झारखंड: प्रचार करने पहुंचीं भाजपा प्रत्याशी गीता कोड़ा का विरोध, भाजपा और झामुमो कार्यकर्ताओं के बीच झड़प||झारखंड में 20 अप्रैल को जारी होगा मैट्रिक परीक्षा का रिजल्ट||कुर्मी को आदिवासी सूची में शामिल करने की मांग से आदिवासी समाज में आक्रोश, आंदोलन की चेतावनी||लातेहार: सुरक्षा व्यवस्था को लेकर डीसी ने रामनवमी जुलूस निकालने वाले मार्गों का किया निरीक्षण||पलामू: तेज रफ़्तार कार और बाइक की टक्कर में युवक की मौत
Sunday, April 14, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

मंत्री नहीं बनाये जाने से नाराज बैद्यनाथ राम ने पार्टी को दिया अल्टीमेटम, भाजपा ने बताया अनुसूचित जाति का अपमान

रांची : चंपाई सोरेन सरकार का कैबिनेट विस्तार राजभवन में हुआ, लेकिन इस खुशी के साथ-साथ गम और बगावत भी दिखी। आखिरी वक्त में बैधनाथ राम को मंत्री पद की शपथ नहीं दिलाये जाने से कांग्रेस के 11 विधायकों ने तो नाराजगी जतायी ही, झारखंड मुक्ति मोर्चा के विधायक भी नाराज हो गये। इससे उनके समर्थकों में गुस्सा तो था ही, साथ ही बैद्यनाथ राम भी गुस्से से लाल दिखे। उन्होंने इसे अपमान बताया, जो किसी भी स्तर पर उचित नहीं था। उनके राजनीतिक करियर में ऐसा पहली बार हुआ है, जो गलत है।

लातेहार विधायक बैद्यनाथ राम ने एक निजी चैनल से बातचीत में इसे घोर अपमान बताया। इसके साथ ही उन्होंने अपनी पार्टी झारखंड मुक्ति मोर्चा को दो दिन का अल्टीमेटम भी दिया। यदि इस पर विचार नहीं किया गया तो झामुमो से अलग होने जैसा बड़ा फैसला लिया जा सकता है। उनके इस ऐलान के बाद स्वाभाविक है कि कांग्रेस के साथ-साथ जेएमएम में भी बगावत के सुर उठने लगे हैं। बैद्यनाथ राम ने भी इसे इस राज्य में बसी अनुसूचित जाति का अपमान बताया। अब देखना ये है कि ये विवाद कैसे ख़त्म होता है।

इधर, भारतीय जनता पार्टी ने भी बैद्यनाथ को मंत्री नहीं बनाये जाने पर झारखंड मुक्ति मोर्चा, कांग्रेस और राजद पर जमकर निशाना साधा। इस संबंध में नेता प्रतिपक्ष अमर बाउरी ने कहा कि उन्होंने एक बार फिर झारखंड के 50 लाख अनुसूचित जाति समुदाय को धोखा दिया है, जो उनके दलित विरोधी चेहरे को दर्शाता है।

आपको बता दें कि झारखंड के राज्यपाल सीपी राधाकृष्णन ने राजभवन के बिरसा मंडप में विधायकों को मंत्री पद की शपथ दिलायी। झामुमो विधायक बैद्यनाथ राम को चंपई कैबिनेट में 12वां मंत्री बनाया जाना था। राज्यपाल भवन से जारी सूची में बैद्यनाथ राम का भी नाम शामिल था। लेकिन ऐन वक्त पर उनका पत्ता कट गया। पता चला कि चंपाई सरकार में सिर्फ 11 मंत्री होंगे। जबकि झारखंड सरकार में संख्याबल के हिसाब से 12 मंत्री बनाये जा सकते हैं।

Jharkhand Political News Today