Breaking :
||मनिका: करोड़ों की लागत से हो रहे सड़क निर्माण में धांधली, बालू की जगह डस्ट से हो रही ढलाई||पड़ताल: गांव के दबंग ने ज़बरन रुकवाया PM आवास का निर्माण, 4 सालों से सरकारी बाबुओं के कार्यालय का चक्कर लगा रहा पीड़ित परिवार||लातेहार: बंद पड़े अभिजीत पावर प्लांट के सुरक्षा गार्ड की संदेहास्पद मौत, जांच जारी||गढ़वा: पड़ोसी युवक के साथ भागी दो बच्चों की मां, बंधक बनाकर पीटा||भूख हड़ताल पर बैठे पारा मेडिकल कर्मियों की तबीयत बिगड़ी, भेजा अस्पताल||Good News: झारखंड में मरीजों के लिए जल्द शुरू होगी एयर एंबुलेंस की सुविधा, मुख्यमंत्री ने किया ऐलान||लातेहार: मनिका बालक मध्य विद्यालय में हुई चोरी मामले का खुलासा, तीन गिरफ्तार, चोरी का सामान बरामद||चतरा में सुरक्षाबलों से नक्सलियों की मुठभेड़, एक नक्सली ढेर, देखें तस्वीर||झारखंड: मूर्ति विसर्जन के दौरान दो गुटों में हिंसक झड़प, दर्जनों लोग घायल, तनाव||धनबाद: हजारा अस्पताल में लगी भीषण आग, दम घुटने से डॉक्टर दंपती समेत 5 की मौत

लातेहार: आदिवासी मुख्यमंत्री के कार्यकाल में आदिवासी की मौत के बाद नहीं मिली एंबुलेंस, ठेले पर ले गया शव

शशि भूषण गुप्ता/बालूमाथ

लातेहार : जिले के बालूमाथ से स्वास्थ्य विभाग की एक बड़ी लापरवाही सामने आयी है। जहां सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र प्रबंधन द्वारा आज एक आदिवासी की मौत के बाद उसके शव को घर ले जाने के लिए एंबुलेंस की व्यवस्था नहीं की गयी। जिसके बाद परिजन शव को ठेले पर लादकर अपने घर ले गये। घटना गुरुवार शाम 7 बजे की है।

इलाज के दौरान हुई थी मौत

बताया जाता है कि बालूमाथ थाना क्षेत्र के बसिया पंचायत के टेमाबार गांव के आदिवासी परिवार के चंद्रू लोहरा की तबीयत बिगड़ गयी थी। परिजन उसे बालूमाथ सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लाये जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गयी। मौत के बाद चंद्रू लोहरा के भतीजे टूलू लोहरा ने अस्पताल प्रबंधन से एंबुलेंस की मांग की। लेकिन अस्पताल प्रबंधन द्वारा एंबुलेंस की व्यवस्था नहीं की गयी।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

निजी वाहन से शव ले जाने के लिए नहीं थे पैसे

टूलू लोहरा ने बताया कि अस्पताल प्रबंधन की ओर से कहा गया कि हमारे पास जो व्यवस्था है, वह दे रहे हैं। अपनी सुविधानुसार शव को ले जायें। एक गरीब परिवार होने के कारण हमारे पास निजी वाहन से शव ले जाने के लिए पैसे नहीं थे। इस कारण हम लोग ठेले से शव को अपने घर ले जा रहे हैं।

प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी ने दिखायी दिलचस्पी

शव ले जाने के दौरान रास्ते में बालूमाथ, मुरपा मोड़ के पास भाजपा नेता सह पूर्व उपप्रमुख संजीव सिन्हा की नजर शव ले जाते परिजनों पर पडी। उन्होंने मृतक के परिजनों से बात की। इसके बाद प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ. पुरुषोत्तम कुमार से एंबुलेंस नहीं देने की जानकारी मांगी। उसके बावजूद प्रभारी द्वारा एंबुलेंस मुहैया कराने में कोई दिलचस्पी नहीं दिखायी गयी और यह कहकर पल्ला झाड़ लिया कि मैं अभी ड्यूटी पर नहीं हूं। इसलिए जिनका कर्तव्य है वही समझेंगे।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

आदिवासी मुख्यमंत्री के कार्यकाल में आदिवासियों की दशा

आदिवासी मुख्यमंत्री के कार्यकाल में आदिवासी की मौत के बाद सरकारी एंबुलेंस की व्यवस्था नहीं होने से स्वास्थ्य विभाग की कार्यप्रणाली पर सवाल खड़े हो रहे हैं। वही दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की जा रही है। लोगों में यह चर्चा का विषय बना हुआ है कि जब आदिवासी मुख्यमंत्री के कार्यकाल में आदिवासियों का ख्याल नहीं रखा जा रहा है तो फिर यह सरकार किस काम की।

अस्पताल परिसर में खड़ी थी एंबुलेंस

इधर, अस्पताल में इलाज करा रहे अन्य परिजनों ने बताया कि चंद्रू लोहरा की मौत के समय बालूमाथ अस्पताल परिसर में एक एंबुलेंस खड़ी थी। लेकिन प्रबंधन द्वारा उन्हें एंबुलेंस मुहैया नहीं करायी गयी।