Breaking :
||हजारीबाग सांसद जयंत सिन्हा ने राजनीति से लिया संन्यास, भाजपा अध्यक्ष को लिखा पत्र, जानिये वजह||दुमका में स्पेनिश महिला पर्यटक से गैंग रेप, तीन आरोपी गिरफ्तार||लातेहार: बारियातू में बाइक पर अवैध कोयला ले जा रहे नौ लोग गिरफ्तार, जेल||लातेहार: अपराध की योजना बनाते दो युवक हथियार के साथ गिरफ्तार||पलामू: पेड़ से टकराकर पुल से नीचे गिरी बाइक, दो नाबालिग छात्रों की मौत, दो की हालत नाजुक||लोकसभा चुनाव: भाजपा ने की झारखंड से 11 उम्मीदवारों के नामों की घोषणा, चतरा समेत इन तीन सीटों पर सस्पेंस बरकरार||लोससभा चुनाव: भाजपा की 195 उम्मीदवारों की पहली सूची जारी, देखें पूरी लिस्ट||सदन की कार्यवाही शुरू होते ही सत्ता पक्ष और विपक्ष के विधायकों का हंगामा||झारखंड विधानसभा: बजट सत्र के अंतिम दिन कई विधेयक पारित||धनबाद: अस्पताल में लगी आग, मची अफरा-तफरी, मरीज और परिजन जान बचाकर भागे
Sunday, March 3, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरलातेहार

लातेहार: सूखे की स्थिति से निपटने के लिए कृषि मंत्री बादल पत्रलेख ने की बैठक कहा- फसल राहत योजना के तहत किसानों को दिया जाएगा मुआवजा

लातेहार : कृषि मंत्री बादल पत्रलेख ने इस साल कम बारिश से सूखे की आशंका को देखते हुए सूखे की स्थिति से निपटने के लिए उपायुक्त लातेहार भोर सिंह यादव समेत जिले के अधिकारियों के साथ बैठक की।

जिले में मात्र 3 प्रतिशत ही हुई है धान की बुआई

उन्होंने कहा कि लातेहार जिले में आकर उन्होंने देखा कि अभी तक बहुत कम खेतों में धान बोया गया है। जिला कृषि अधिकारी ने बताया कि जिले में अब तक मात्र 3 प्रतिशत धान की ही बुआई हुई है।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

सूखे की स्थिति से निपटने के लिए आकस्मिक कार्य योजना तैयार करने के निर्देश

कृषि मंत्री ने सूखे की स्थिति से निपटने के लिए आकस्मिक कार्य योजना तैयार करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि कम बारिश में धान और मोटे अनाज की विभिन्न किस्मों की खेती की जानी चाहिए। उन्होंने सूखे की स्थिति से बचने के लिए पशुपालन को बढ़ावा देने की भी बात कही। साथ ही कृषि मंत्री ने कहा कि सूखे की रोकथाम के लिए जिले में सिंचाई सुविधा विकसित की जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि तालाब, अहार, बांध आदि जलाशयों का कायाकल्प कर जिले में सिंचित कृषि क्षेत्र को बढ़ाया जाए।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

इसके अलावा उन्होंने जिला सांख्यिकी पदाधिकारी को निर्देश दिया कि जिले में बुआई एवं बुआई के बाद बिचड़ों की जीवित रहने की स्थिति का सही ढंग से आंकलन कर रिपोर्ट तैयार करने की बात कही। ताकि सरकार को वास्तविक स्थिति का पता चल सके।

फसल को नुकसान होने पर झारखंड राज्य फसल राहत योजना के तहत दिया जाएगा मुआवजा

कृषि मंत्री ने बताया कि राज्य सरकार ने सूखे की स्थिति को देखते हुए झारखंड राज्य फसल राहत योजना लागू की है। इसके तहत सूखे की वजह से 30 से 50 फीसदी तक फसल को नुकसान होने पर 3000 रुपये प्रति एकड़ और अधिकतम 15000 रुपये दिए जाएंगे। फसल को 50 प्रतिशत से अधिक नुकसान होने पर 4000 रुपये प्रति एकड़ और अधिकतम 20000 रुपये दिए जाएंगे।

बैठक में जिला क़ृषि पदाधिकारी लातेहार रामशंकर प्रसाद सिंह समेत अन्य पदाधिकारी उपस्थिति थे।