Breaking :
||बंद औद्योगिक इकाइयों को पुनर्जीवित करेगी राज्य सरकार : मुख्यमंत्री||आर्थिक तंगी के कारण कोई भी छात्र उच्च एवं तकनीकी शिक्षा से न रहे वंचित: मुख्यमंत्री||झारखंड में मानसून की आहट, भारी बारिश का अलर्ट जारी||बड़गाईं जमीन घोटाले में ED की बड़ी कार्रवाई, जमीन कारोबारी के ठिकाने से एक करोड़ कैश और गोलियां बरामद||पेयजल एवं स्वच्छता विभाग के सेक्शन अधिकारी समेत दो रिश्वत लेते गिरफ्तार||सतबरवा में कपड़ा व्यवसायी के बेटे और बेटी के अपहरण का प्रयास विफल, लातेहार की ओर से आये थे अपहरणकर्ता||लातेहार: एनडीपीएस एक्ट के दोषी को 15 वर्ष का कठोर कारावास और 1.5 लाख रुपये का जुर्माना||लातेहार सिविल कोर्ट में आपसी सहमति से प्रेमी युगल ने रचायी शादी||लातेहार: किड्जी प्री स्कूल के बच्चों ने अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर किया योगाभ्यास||किसानों की समृद्धि से राज्य की अर्थव्यवस्था को मिलेगी मजबूती : मुख्यमंत्री
Saturday, June 22, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरचंदवापलामू प्रमंडललातेहार

लातेहार: झोलाछाप डॉक्टर के गलत इलाज से गर्भ में पल रहे बच्चे की मौत के बाद रिम्स में इलाज के दौरान महिला ने भी तोड़ा दम

मुकेश कुमार सिंह/चंदवा

लातेहार : जिले के चंदवा प्रखंड से एक सनसनीखेज मामला सामने आया है। जहां झोलाछाप डॉक्टर के गलत इलाज से जच्चा-बच्चा दोनों की मौत हो गयी। मामला चंदवा प्रखंड के लाधूप पंचायत के भरी गांव का है।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

मिली जानकारी के अनुसार भरी गांव निवासी जागेश्वर गंझू की पत्नी रीना देवी 9 महीने की गर्भवती थी। जिसका इलाज झोलाछाप डॉक्टर देनी साव ने किया। इस दौरान उसके बच्चे की मौत गर्भ में ही हो गयी। जिसके बाद से महिला की हालत भी चिंताजनक बनी हुई थी। गर्भवती रीना देवी ने मरने से पहले खुद यह बात बतायी थी।

रीना देवी की चाची सास ने बताया कि हमलोग को बिना बताये रीना देवी ने देनी साव से इलाज कराया था। जिससे उसके 9 माह के बच्चे की पेट में ही मौत हो गयी। गांव की महिला ने किसी तरह पेट से मृत बच्चे को बाहर निकाला। इसके बाद उसे दफनाया गया। इधर, बच्चा होने के बाद रीना देवी की हालत काफी गंभीर नजर आ रही थी।

रीना के पति जागेश्वर गंझू उसकी गंभीर हालत को देखते हुए उसे चंदवा के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लेकर आया। उसे देख डॉ. नंद कुमार पांडेय ने लातेहार सदर अस्पताल रेफर कर दिया। सदर अस्पताल में करीब एक सप्ताह तक चले इलाज के बाद रीना की हालत में सुधार नहीं होने पर लातेहार सदर अस्पताल के चिकित्सकों ने भी रीना को रिम्स रेफर कर दिया। जहां तीन दिन पहले इलाज के दौरान उसकी भी मौत हो गयी।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

वहीं गलत इलाज के बाद हालत बिगड़ने पर झोलाछाप डॉक्टर देनी साव द्वारा किसी तरह की कोई आर्थिक मदद नहीं की गयी, जिससे जच्चा-बच्चा दोनों की मौत हो गयी।

इधर, जानकारी मिलने के बाद लातेहार सीएस डॉ. दिनेश कुमार ने कहा कि हमारी टीम मृतक के घर जाकर परिजनों से मिलेगी और जांच करेगी। उसके बाद झोलाछाप डॉक्टर के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जायेगी।