Breaking :
||मनिका: करोड़ों की लागत से हो रहे सड़क निर्माण में धांधली, बालू की जगह डस्ट से हो रही ढलाई||पड़ताल: गांव के दबंग ने ज़बरन रुकवाया PM आवास का निर्माण, 4 सालों से सरकारी बाबुओं के कार्यालय का चक्कर लगा रहा पीड़ित परिवार||लातेहार: बंद पड़े अभिजीत पावर प्लांट के सुरक्षा गार्ड की संदेहास्पद मौत, जांच जारी||गढ़वा: पड़ोसी युवक के साथ भागी दो बच्चों की मां, बंधक बनाकर पीटा||भूख हड़ताल पर बैठे पारा मेडिकल कर्मियों की तबीयत बिगड़ी, भेजा अस्पताल||Good News: झारखंड में मरीजों के लिए जल्द शुरू होगी एयर एंबुलेंस की सुविधा, मुख्यमंत्री ने किया ऐलान||लातेहार: मनिका बालक मध्य विद्यालय में हुई चोरी मामले का खुलासा, तीन गिरफ्तार, चोरी का सामान बरामद||चतरा में सुरक्षाबलों से नक्सलियों की मुठभेड़, एक नक्सली ढेर, देखें तस्वीर||झारखंड: मूर्ति विसर्जन के दौरान दो गुटों में हिंसक झड़प, दर्जनों लोग घायल, तनाव||धनबाद: हजारा अस्पताल में लगी भीषण आग, दम घुटने से डॉक्टर दंपती समेत 5 की मौत

सीओ हेमा प्रसाद व अन्य के खिलाफ होगी ACB जांच, सीएम हेमंत सोरेन ने दी मंजूरी

रांची : जामताड़ा के तत्कालीन अंचल अधिकारी (सीओ) हेमा प्रसाद व अन्य के खिलाफ अब एसीबी (भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो) जांच करेगी। झारखंड के सीएम हेमंत सोरेन ने इससे जुड़े प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। यह मामला जामताड़ा जिले के मिहिजाम थाना अंतर्गत बुटकेरिया मौजा में अवैध रूप से जमीन की खरीद-फरोख्त से जुड़ा है।

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने मिहिजाम थाना क्षेत्र के बुटकेरिया मौजा में जमीन की अवैध खरीद-बिक्री से संबंधित तत्कालीन अंचल अधिकारी हेमा प्रसाद व अन्य के खिलाफ मिहिजाम थाना कांड संख्या (47/2016) भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो को स्थानांतरित करने का प्रस्ताव दिया है।

रांची की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

इस मामले में जामताड़ा के तत्कालीन अंचल अधिकारी हेमा प्रसाद, तत्कालीन अंचल निरीक्षक इस्माइल टुडू व अन्य के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने की अनुमति देने का अनुरोध किया गया है। रिपोर्ट के अनुसार जामताड़ा थाने में इस संबंध में धारा 420/406/409/468/471 व 120-बी के तहत कांड संख्या- 47/16 दर्ज किया गया है।

फरार होने की स्थिति में कुर्की जब्ती के निर्देश

प्रतिवेदन से स्पष्ट है कि इस प्रकरण के सभी नौ प्राथमिक अभियुक्तों के विरूद्ध प्रकरण को सत्य पाये जाने पर अविलम्ब गिरफ्तार करने एवं फरार होने की दशा में कुर्की की जब्ती हेतु कार्यवाही करने एवं स्वीकृति प्राप्त करने हेतु प्रतिवेदन प्रस्तुत करने हेतु उचित माध्यम से और पर्यवेक्षण में अभियोजन। लंबित अन्य निर्देशों का अनुपालन करने का निर्देश दिया गया है।