Breaking :
||भीषण गर्मी की चपेट में झारखंड, सूरज उगल रहा आग, विशेषज्ञों ने बताये बचाव के उपाय||लातेहार: मनिका स्थित कल्याण गुरुकुल में युवती की संदिग्ध मौत, जांच में जुटी पुलिस||रांची के रातू रोड इलाके से गुजर रहे हैं तो हो जायें सावधान! बाइक सवार बदमाशों की है आप पर नजर||गढ़वा में सैकड़ों चमगादड़ों की दर्दनाक मौत, भीषण गर्मी से मौत की आशंका||लातेहार: अमझरिया घाटी की खाई में गिरा ट्रक, चालक और खलासी की मौत||मैक्लुस्कीगंज में ऑप्टिकल फाइबर बिछाने के काम में लगे कंटेनर में नक्सलियों ने लगायी आग, जिंदा जला मजदूर||फल खरीदने गया पति, प्रेमी के साथ भाग गयी पत्नी||पलामू में 47.5 डिग्री पहुंचा पारा, मई महीने का रिकॉर्ड टूटा, दशक का सर्वाधिक अधिकतम तापमान||DJ सैंडी मर्डर केस : हत्या और मारपीट का मामला दर्ज, बार संचालक व बाउंसर समेत 14 गिरफ्तार||झारखंड की चर्चा खूबसूरत पहाड़ों की वजह से नहीं बल्कि नोटों के पहाड़ की वजह से हो रही : मोदी
Wednesday, May 29, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरपलामूपलामू प्रमंडल

पलामू में एसीबी ने किया राजस्व उपनिरीक्षक को रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार, लातेहार का रहने वाला है राजस्व उप निरीक्षक

पलामू : जिले के हुसैनाबाद अंचल क्षेत्र के हल्का नंबर-6 के राजस्व उपनिरीक्षक सचिन गुप्ता को एंटी करप्शन ब्यूरो की टीम ने बुधवार को 4 हजार रुपये रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया। उसे हुसैनाबाद स्थित उसके आवास से गिरफ्तार किया गया। गिरफ्तारी के बाद राजस्व उपनिरीक्षक को मेदिनीनगर कार्यालय लाया गया। यहां से कागजी कार्रवाई व मेडिकल जांच के बाद उसे न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया।

गौरतलब है कि राजस्व उपनिरीक्षक की गिरफ्तारी के साथ ही एसीबी पलामू ने इस साल का 8वां ट्रैप केस पूरा कर लिया है।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

बताया जाता है कि हुसैनाबाद के दरुआ के राजेश तिवारी ने वर्ष 2020 में अपनी पत्नी अंजू देवी के नाम से रामपुर उर्फ मेहंदीनगर के खाता नंबर 07, प्लॉट नंबर 207 में दो डिसमिल जमीन खरीदी थी, जिसके ट्रांसफर के लिए सभी कागजात जुलाई में ऑनलाइन किये गये थे। लेकिन नामांतरण नहीं हुआ था। नामांतरण वाद संख्या 1452 आर 27/2023-24 हुसैनाबाद है।

जमीन के नामांतरण के लिए जब राजेश हुसैनाबाद अंचल के हल्का नंबर 6 के राजस्व उपनिरीक्षक सचिन गुप्ता से मिले तो उन्होंने 5 हजार रुपये रिश्वत की मांग की। बार-बार कहने के बावजूद राजस्व उपनिरीक्षक रिश्वत लिए बिना काम करने को तैयार नहीं था। राजेश रिश्वत नहीं देना चाहता था। उन्होंने इसकी शिकायत एंटी करप्शन ब्यूरो पलामू के कार्यालय में की। एसीबी पुलिस निरीक्षक ने जब मामले का सत्यापन किया तो मामला सत्य पाया गया।

राजेश के आवेदन एवं सत्यापनकर्ता के प्रतिवेदन के आधार पर मामला दर्ज कर छापेमारी टीम गठित कर दो स्वतंत्र गवाहों की उपस्थिति में कार्रवाई की गयी। राजस्व उपनिरीक्षक सचिन गुप्ता लातेहार जिले के जालिमखुर्द गांव का रहने वाला है।

Palamu Latest News Today