Breaking :
||लातेहार: बालूमाथ में विवाहिता ने फांसी लगाकर की आत्महत्या, मायके वालों ने लगाया हत्या का आरोप||लातेहार: मनिका में सड़क निर्माण स्थल पर उग्रवादियों का हमला, JCB मशीन में लगायी आग||वेतन नहीं मिलने से नहीं हुआ बेहतर इलाज, गढ़वा में DRDA कर्मी की मौत||लातेहार: हेरहंज में पेड़ से गिरकर युवक की मौत, परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल||लातेहार: सड़क दुर्घटना में घायल महिला की इलाज के दौरान मौत, मुआवजे की मांग को लेकर सड़क जाम||लातेहार: महुआडांड में आदिवासी महिला से दुष्कर्म के बाद बनाया वीडियो, वायरल करने व जान से मारने की धमकी||लातेहार: चंदवा पुलिस ने अभिजीत पावर प्लांट से लोहा चोरी कर ले जा रहे पिकअप को पकड़ा, एक गिरफ्तार||लातेहार: महुआडांड़ में बस और बाइक की जोरदार टक्कर में दो युवकों की मौत, एक गंभीर, देखें तस्वीरें||पलामू: मनरेगा कार्य में लापरवाही बरतने के आरोप में दो जेई सेवामुक्त, एक पर कानूनी कार्रवाई करने का निर्देश||हेमंत सरकार पर जमकर बरसे अमित शाह, उखाड़ फेंकने का आह्वान

Special Report: मनिका में 8 साल के बच्चे ले रहे पीएम किसान सम्मान निधि का लाभ, नियमों को ताक पर रखकर मिल रही राशि

कौशल किशोर पांडेय/मनिका

लातेहार : जिले के मनिका प्रखंड में सरकारी राशि के बंदरबांट की कारगुजारी लगातार नई ऊंचाईयों को छू रहा है। बिचौलिये गिरी की ऐसी हरकत सुनकर हैरानी होती है। जी हाँ, एक ऐसा ही कृत्य सामने आया है, जिसमें बिचौलियों ने तमाम नियम-कानूनों की अनदेखी कर पूरे प्रशासन की आंखों में धूल झोंकने का काम किया है।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

पीएम किसान निधि योजना की उड़ रही धज्जियां

हालांकि मनिका प्रखंड के सरकारी राशि घोटाले के मामले में पीएम आवास की जांच की गरमी अभी शांत भी नहीं हुई थी। तभी THE NEWS SENSE ने दूसरे सबसे धमाकेदार घोटाले का पर्दाफाश किया है। चौंकाने वाली खबर यह है कि मनिका प्रखंड में 8 साल के बच्चे भी प्रधानमंत्री सम्मान निधि योजना का लाभ उठा रहे हैं। सरकारी राशि का बंदरबांट करने के लिए बिचौलियों ने आठ साल के बच्चे को भी किसान बना दिया।

8 से 15 साल के बच्चे ले रहे लाभ, एक घर से तीन-तीन सदस्यों को मिल रही राशि

प्रखंड के नामूदाग पंचायत के नामुदाग गांव निवासी एहसानुल हक का पुत्र मो अवैश रजा 8 वर्ष पीएम सम्मान निधि योजना का लाभ किसान बनकर ले रहा है। वहीं इसी गांव के मोहन मिस्त्री की पुत्री नौवीं की छात्रा लक्की कुमारी भी पीएम किसान सम्मान निधि योजना की लाभार्थी है। नामुदाग गांव के मोइन अंसारी का पुत्र अली राजा 10 वर्ष, पुत्री रोजी खातून, मिन्हाज आलम पिता अनवर अंसारी, दुबजरबा गांव के सत्येंद्र राम का पुत्र राजा कुमार 10 वर्ष, पुत्री ममता कुमारी 19 वर्ष, इसी गांव की अंजू कुमारी 16 वर्ष पिता चलीतर भुइयां, कुंती कुमारी पिता हजारी भुइयां, नामुदाग गांव निवासी पंकज ठाकुर 12 वर्ष पिता महेंद्र ठाकुर, सफीना खातून पिता नूर मुहम्मद समेत प्रखंड के सैकड़ों बच्चे पीएम किसान सम्मान निधि योजना का लाभ बिचौलियों की मिलीभगत से लेते आ रहे हैं।

बच्चे ले रहे लाभ, वास्तविक किसान वंचित

सबसे अहम खबर है कि स्थानीय पदाधिकारी और जन प्रतिनिधि भी इस मामले में चुप्पी साधे हुए हैं। जिस योजना का लाभ किसानों को मिलना चाहिए उस योजना का का लाभ 8 से 15 साल के बच्चे उठा रहे हैं और असली किसानों को इसका लाभ नहीं मिल रहा है।

झोला छाप डॉक्टर व प्रज्ञा केंद्र संचालक की मिलीभगत

अंजू कुमारी की मां मूर्ति देवी ने बताया कि नामुदाग में झोला छाप डॉक्टर का काम करने वाला हारून ने मेरी बेटी का फार्म भरा था। पैसे निकालने पर वह आधा पैसा लेता था। वहीं नामुदाग गांव में प्रज्ञा केंद्र संचालक जमशेद आलम ने भी बच्चों का फार्म भरकर पीएम सम्मान निधि योजना की राशि दिलाने का काम किया। इन बच्चों के अभिभावक पीएम किसान सम्मान निधि योजना की राशि निकालकर पदाधिकारियों के आंखों में धूल झोंकने का काम किया है।

क्या है योजना

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि भारत सरकार की एक महत्वपूर्ण योजना है। इस योजना के अन्तर्गत भारत सरकार छोटे और सीमान्त किसानों को आर्थिक सहायता प्रदान करती है। जिसके तहत प्रति वर्ष किसानों को 6 हजार रुपये मिलता है। यह योजना 1 दिसम्बर 2018 से लागू हुई थी। प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत 6,000 प्रति वर्ष प्रत्येक पात्र किसान को तीन किश्तों में भुगतान किया जाता है और सहायता राशि सीधे उनके बैंक खातों में जमा हो जाती है। यानी कि भारत सरकार प्रत्येक 4 माह के बाद किसानों को 2 हजार रुपये की सहायता राशि दे रही है।

कम आय वाले किसानों के लिए है वरदान

छोटे किसानों के लिए यह योजना अत्यन्त उपयोगी सिद्ध हुई है। बुआई से ठीक पहले नगदी संकट से जूझने वाले किसानों को इस नगदी से बीज, खाद के लिए राशि प्रदान की जाती है। इस योजना का लाभ दो हेक्टेयर खेती वाली जमीन से कम रकबा वाले किसानों को दिए जाने का प्रावधान है। ऐसे किसानों की भूमि रिपोर्ट और उनके बैंक खाते और अन्य ब्यौरा केंद्र सरकार को मुहैया कराती है। उसकी पुष्टि के पश्चात केन्द्र सरकार ऐसे किसानों के बैंक खातों में राशि भेजने का काम करती है।

इसे भी पढ़ें :- भोजपुरी स्टार खेसारी लाल यादव व अक्षरा सिंह 25 अक्टूबर को बालूमाथ में

क्या कहते हैं एसडीएम

एडीएम शेखर कुमार ने कहा कि बच्चों के खाते में पीएम किसान सम्मान निधि योजना की राशि जाना सरासर गलत है। मामले में जांच करायी जाएगी। उन्होंने कहा कि बिचौलिया की संलिप्तता, प्रज्ञा केंद्र संचालक और मामले में संलिप्त लोगों को बख्शा नहीं जाएगा। वहीं उन्होंने कहा कि मामले में संबंधित अभिभावकों से वसूली के साथ एफआईआर भी किया जाएगा।