Breaking :
||हेमंत सरकार का निर्णय, सरकारी कार्यक्रमों में ‘जोहार’ शब्द से अभिवादन करना अनिवार्य||सरकार खतियान आधारित स्थानीयता बिल फिर राज्यपाल को भेजेगी : JMM||राज्य स्तरीय झांकी में पलामू किला को मिला पहला स्थान, राज्यपाल ने किया पुरस्कृत||नहीं रहे ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री नव किशोर दास, इलाज के दौरान तोड़ा दम||दुमका में मूर्ति विसर्जन के दौरान जय श्री राम के नारे बजाने को लेकर दो समुदायों के बीच झड़प||मुख्यमंत्री ने लातेहार के कार्यपालक अभियंता पर अभियोजन चलाने की दी स्वीकृति||1932 के खतियान आधारित स्थानीयता वाले विधेयक को राज्यपाल ने लौटाया, कहा- सरकार वैधानिकता की करे समीक्षा||भाजपा प्रदेश प्रवक्ता ने किया पतरातू गांव का दौरा, घटना की CID जांच की मांग||लातेहार: मूर्ति विसर्जन के दौरान दो समुदायों में भिड़ंत, गांव पहुंचे विधायक और एसपी, माहौल तनावपूर्ण||ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री पर जानलेवा हमला, कार से उतरते ही ASI ने मारी गोली

झारखंड में 29 दिसंबर से शुरू होंगे 50 मॉडल स्कूल, सरकारी स्कूल के बच्चे निजी स्कूल के बच्चों को देंगे टक्कर

रांची : राज्य के शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो ने शुक्रवार को कहा कि झारखंड में 29 दिसंबर को 50 मॉडल स्कूल शुरू होंगे। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन इन स्कूलों का उद्घाटन करेंगे। शिक्षा मंत्री रांची के होटल रेडिसन ब्लू में सेव द चिल्ड्रेन द्वारा आयोजित कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे।

रांची की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

झारखंड के बच्चों को बेहतर शिक्षा देने के उद्देश्य से सेव द चिल्ड्रन द्वारा किए गये प्रयासों और उसके परिणामों पर चर्चा के लिए आयोजित कार्यक्रम में मंत्री ने कहा कि हमने कहा था कि सरकारी स्कूलों के बच्चे निजी स्कूलों के बच्चों को टक्कर देंगे। इस बार के नतीजे में हमने इसे साबित कर दिया।

उन्होंने कहा कि राज्य में 80 मॉडल स्कूल बन रहे हैं। 50 स्कूल तैयार हैं। 29 दिसंबर को मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन इसका उद्घाटन करेंगे। हालांकि उन्होंने यह नहीं बताया कि ये स्कूल किन जिलों में खोले जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि इसकी सूची जल्द ही जारी की जायेगी।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

मंत्री ने कहा कि झारखंड में खोले जा रहे मॉडल स्कूलों में गरीब परिवारों के बच्चे पढ़ सकेंगे। अगर वे क्षेत्रीय भाषा में पढ़ना चाहते हैं तो उन्हें क्षेत्रीय भाषा में पढ़ाया जायेगा। अगर वे हिंदी माध्यम में पढ़ना चाहते हैं तो उनकी पढ़ाई हिंदी में होगी। अगर वे अंग्रेजी में पढ़ने के इच्छुक हैं तो उन्हें अंग्रेजी में ही पढ़ाया जायेगा। अब गरीब परिवारों के बच्चों को पढ़ाई के बारे में नहीं सोचना पड़ेगा। झारखंड सरकार उनकी पढ़ाई का पूरा इंतजाम करेगा।