Breaking :
||झारखंड में 20 अप्रैल को जारी होगा मैट्रिक परीक्षा का रिजल्ट||कुर्मी को आदिवासी सूची में शामिल करने की मांग से आदिवासी समाज में आक्रोश, आंदोलन की चेतावनी||लातेहार: सुरक्षा व्यवस्था को लेकर डीसी ने रामनवमी जुलूस निकालने वाले मार्गों का किया निरीक्षण||पलामू: तेज रफ़्तार कार और बाइक की टक्कर में युवक की मौत||लातेहार: बारियातू में पेड़ से लटका मिला महिला का शव, जांच में जुटी पुलिस||गुमला में TSPC के चार उग्रवादी गिरफ्तार, हथियार और जिंदा कारतूस समेत अन्य सामान बरामद||चतरा: नक्सलियों की बड़ी साजिश नाकाम, दो सिलेंडर बम बरामद||मनी लॉन्ड्रिंग मामले में निलंबित मुख्य अभियंता वीरेंद्र राम की जमानत याचिका खारिज, पत्नी व पिता को भी नहीं मिली राहत||नहाय खाय के साथ सूर्योपासना का चार दिवसीय चैती छठ महापर्व शुरू||लातेहार: चुनाव प्रशिक्षण में अनुपस्थित 56 मतदान कर्मियों को मिला आखिरी मौका, उपस्थित नहीं हुए तो होगी कार्रवाई
Sunday, April 14, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

झारखंड में 29 दिसंबर से शुरू होंगे 50 मॉडल स्कूल, सरकारी स्कूल के बच्चे निजी स्कूल के बच्चों को देंगे टक्कर

रांची : राज्य के शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो ने शुक्रवार को कहा कि झारखंड में 29 दिसंबर को 50 मॉडल स्कूल शुरू होंगे। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन इन स्कूलों का उद्घाटन करेंगे। शिक्षा मंत्री रांची के होटल रेडिसन ब्लू में सेव द चिल्ड्रेन द्वारा आयोजित कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे।

रांची की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

झारखंड के बच्चों को बेहतर शिक्षा देने के उद्देश्य से सेव द चिल्ड्रन द्वारा किए गये प्रयासों और उसके परिणामों पर चर्चा के लिए आयोजित कार्यक्रम में मंत्री ने कहा कि हमने कहा था कि सरकारी स्कूलों के बच्चे निजी स्कूलों के बच्चों को टक्कर देंगे। इस बार के नतीजे में हमने इसे साबित कर दिया।

उन्होंने कहा कि राज्य में 80 मॉडल स्कूल बन रहे हैं। 50 स्कूल तैयार हैं। 29 दिसंबर को मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन इसका उद्घाटन करेंगे। हालांकि उन्होंने यह नहीं बताया कि ये स्कूल किन जिलों में खोले जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि इसकी सूची जल्द ही जारी की जायेगी।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

मंत्री ने कहा कि झारखंड में खोले जा रहे मॉडल स्कूलों में गरीब परिवारों के बच्चे पढ़ सकेंगे। अगर वे क्षेत्रीय भाषा में पढ़ना चाहते हैं तो उन्हें क्षेत्रीय भाषा में पढ़ाया जायेगा। अगर वे हिंदी माध्यम में पढ़ना चाहते हैं तो उनकी पढ़ाई हिंदी में होगी। अगर वे अंग्रेजी में पढ़ने के इच्छुक हैं तो उन्हें अंग्रेजी में ही पढ़ाया जायेगा। अब गरीब परिवारों के बच्चों को पढ़ाई के बारे में नहीं सोचना पड़ेगा। झारखंड सरकार उनकी पढ़ाई का पूरा इंतजाम करेगा।