Breaking :
||लातेहार: दो बाइकों की टक्कर में मामा-भांजा समेत चार घायल समेत बालूमाथ की दो खबरें||पलामू में युवक की गोली मारकर हत्या, जांच में जुटी पुलिस||झारखंड कैबिनेट की बैठक 19 जून को, लिये जायेंगे कई अहम फैसले||रजरप्पा को विश्वस्तरीय धार्मिक पर्यटन स्थल के रूप में किया जाये विकसित, कार्ययोजना करें तैयार : मुख्यमंत्री||झारखंड में IPS अधिकारियों का ट्रांसफर-पोस्टिंग||पलामू में प्रतिबंधित मांस का टुकड़ा फेंके जाने से तनाव, इलाका पुलिस छावनी में तब्दील||JBKSS प्रमुख जयराम महतो ने की विधानसभा चुनाव में 55 सीटों पर लड़ने की घोषणा||मुठभेड़ में पांच नक्सलियों को मार गिराने वाली टीम को DGP ने किया सम्मानित, कहा- मुख्य धारा में लौटें, अन्यथा मारे जायेंगे||झारखंड में भीषण गर्मी से मिलेगी राहत, 20 जून तक मानसून करेगा प्रवेश||पलामू: बालिका गृह में दुष्कर्म पीड़िता की बहन की मौत, मजिस्ट्रेट की मौजूदगी में हुआ पोस्टमार्टम
Wednesday, June 19, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरपलामूपलामू प्रमंडल

पलामू: कुएं में डूबकर 35 बंदरों की मौत, कारण स्पष्ट नहीं, विभाग कर रहा जांच

Palamu Latest News Today

पलामू : जिले के पांकी प्रखंड के सोरठ गांव के सिंचाई कुएं में डूबकर करीब 35 से 40 बंदरों की मौत हो गयी। हालांकि इसके स्पष्ट आंकड़े सामने नहीं आये हैं। संभावना जतायी जा रही है कि सारे बंदर कुएं में प्यास बुझाने के लिए उतरे होंगे और फिर बाहर नहीं निकल पाये। ऐसे में उनकी डूबने से मौत हो गयी। पानी के भी विषैला होने की संभावना लगती है। बंदरों की डेड बॉडी देखने से लगता है कि घटना तीन चार दिन पहले की होगी।

सूचना मिलने के बाद वन विभाग और प्रशासन मामले की जांच में जुट गया है। वन विभाग द्वारा कुएं से बंदरों के शव निकाले जा रहे हैं। पांकी एवं कुन्दरी वन क्षेत्र के कर्मियों को इसमें लगाया गया है। जिस जगह यह घटना हुई, वह सुदूरवर्ती और जंगली क्षेत्र प्रतीत होता है।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

भीषण गर्मी पड़ने के कारण जंगलों में जलाशय सूख चुके हैं। जलाशयों में पानी नहीं रहने के कारण जंगलों में रहने वाले जानवर आबादी वाले इलाके में अपनी प्यास बुझाने के लिए पहुंच रहे हैं। ऐसी संभावना है कि पानी की तलाश में भटक रहे बंदर उक्त कुएं को देखकर अपनी प्यास बुझाने के लिए उतरे होंगे, लेकिन बाहर नहीं निकल सके होंगे।

रविवार की शाम सोरठ इलाके में मवेशी चराने के चरवाहों ने दुर्गंध महसूस करके कुएं में झांका तो एक साथ कई बंदरों की डेड बॉडी कुएं में नजर आयी। बाद में इसकी जानकारी गांव वालों को हुई। ग्रामीणों का कहना है कि घटना के संबंध में उन्हें भी कोई जानकारी नहीं है, लेकिन संभावना है कि बुधवार या गुरुवार को यह घटना हुई होगी। कुआं जमीन की सतह से बराबर पर बना हुआ है।

कुएं के अंदर उतरने के लिए लोहे की कड़ी भी लगी हुई है। कुएं का प्लास्टर किया गया है, लेकिन पानी को देखने से स्पष्ट होता है कि इसका इस्तेमाल लंबे समय से नहीं किया जा रहा होगा। पानी काला पड़ गया है। कुएं में गंदगी भी नजर आयी है। कुएं के पानी की भी जांच होनी चाहिए, ताकि मौत का कारण स्पष्ट हो सके। ऐसा नहीं है कि बंदर कुएं के ऊपरी सतह से नीचे छलांग लगा दिये होंगे। कड़ी लगे होने कारण कुएं में उतरने के लिए बंदरों द्वारा कड़ी का इस्तेमाल किया गया होगा, लेकिन पानी पीने के बाद उनकी स्थिति बिगड़ गयी होगी, इससे भी इनकार नहीं किया जा सकता है।

मामले में मेदिनीनगर के वन प्रमंडल पदाधिकारी कुमार आशीष का कहना है कि सारे बंदरों के शव निकाले जा रहे हैं। सभी का पोस्टमार्टम किया जायेगा।

Palamu Latest News Today