Breaking :
||लातेहार: बालूमाथ में अज्ञात वाहन की चपेट में आने से बाइक सवार युवक की मौत समेत बालूमाथ की चार खबरें||झारखंड: आग लगने की सूचना पर ट्रेन से कूदे यात्री, झाझा-आसनसोल यात्रियों के ऊपर से गुजरी, 12 की मौत||राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू पहुंचीं रांची, सेंट्रल यूनिवर्सिटी के दीक्षांत समारोह में हुईं शामिल, कहा- दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने की राह पर भारत||झारखंड में बिजली हुई महंगी, नयी दरें एक मार्च से होंगी लागू||झारखंड में बड़े पैमाने पर BDO की ट्रांसफर-पोस्टिंग, यहां देखें पूरी लिस्ट||दुमका में फिर पेट्रोल कांड, प्रेमिका और उसकी मां पर पेट्रोल डाल कर प्रेमी ने लगायी आग||छत्तीसगढ़ में पुलिस के साथ मुठभेड़ में चार नक्सली ढेर, शव बरामद||UP राज्यसभा चुनाव में BJP के आठों उम्मीदवारों ने की जीत हासिल||माओवादी टॉप कमांडर रविंद्र गंझू के दस्ते का सक्रिय सदस्य ढेचुआ गिरफ्तार||पलामू: तूफान और बारिश ने मचायी तबाही, दो छात्रों की मौत, कहीं गिरे पेड़ तो कहीं ब्लैकआउट
Thursday, February 29, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

ED की छापेमारी में इजहार अंसारी के ठिकाने से मिले तीन करोड़

रांची : प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने शुक्रवार को हजारीबाग निवासी मोहम्मद इजहार अंसारी के आवास पर छापेमारी के दौरान आईएएस पूजा सिंघल से जुड़े 3 करोड़ रुपये जब्त किये। अंसारी कहकशा समूह की कंपनियों को नियंत्रित करते हैं। ईडी ब्लू सिप्रा अपार्टमेंट, हरमू, रामगढ़ और हजारीबाग, रांची में कई ठिकानों पर छापेमारी कर रही है।

जानकारी के मुताबिक़ अंसारी तत्कालीन खनन विभाग पूजा सिंघल की ओर से कट मनी की वसूली और प्रबंधन का काम करता था। पूजा को प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने पिछले साल मई में मनरेगा घोटाले के सिलसिले में गिरफ्तार किया था। वह सुप्रीम कोर्ट द्वारा दी गयी अस्थायी जमानत पर हैं। कैप्टिव कोयले की खपत में विसंगतियों की जांच के लिए छापे मारे गये। इस संबंध में झारखंड राज्य खनिज विकास निगम (जेएसएमडीसी) के पूर्व कोयला एवं बालू प्रभारी अशोक कुमार सिंह के खिलाफ भी छापेमारी की गयी।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

छापेमारी से पूजा सिंघल की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। क्योंकि, वे JSMDC की मैनेजिंग डायरेक्टर के पद पर थीं। अशोक कुमार सिंह पूजा सिंघल के करीबी बताये जाते हैं। सूत्रों ने बताया कि पूजा सिंघल जेएसएमडीसी के रियायती कोयले का फर्जी आवंटन करती थी। फिर आवंटित कोयले की तस्करी होती थी। अभिव्यक्ति के नाम पर 12 से ज्यादा शेल कंपनियां बतायी जा रही हैं।

Jharkhand ED raid Today