Breaking :
||गुमला में लूटपाट करने आये चार अपराधी हथियार के साथ गिरफ्तार||रांची में वाहन चेकिंग के दौरान भारी मात्रा में कैश बरामद||लोहरदगा में धारदार हथियार से गला रेतकर महिला की हत्या||पलामू समेत झारखंड के इन चार लोकसभा सीटों के लिए 18 से शुरू होगा नामांकन, प्रत्याशी गर्मी की तपिश में बहा रहे पसीना||रामनवमी के दौरान माहौल बिगाड़ने वाले आपत्तिजनक पोस्ट पर झारखंड पुलिस की पैनी नजर, गाइडलाइन जारी||झारखंड: प्रचार करने पहुंचीं भाजपा प्रत्याशी गीता कोड़ा का विरोध, भाजपा और झामुमो कार्यकर्ताओं के बीच झड़प||झारखंड में 20 अप्रैल को जारी होगा मैट्रिक परीक्षा का रिजल्ट||कुर्मी को आदिवासी सूची में शामिल करने की मांग से आदिवासी समाज में आक्रोश, आंदोलन की चेतावनी||लातेहार: सुरक्षा व्यवस्था को लेकर डीसी ने रामनवमी जुलूस निकालने वाले मार्गों का किया निरीक्षण||पलामू: तेज रफ़्तार कार और बाइक की टक्कर में युवक की मौत
Monday, April 15, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

25 लाख के इनामी माओवादी नवीन यादव ने किया आत्मसमर्पण, 100 से अधिक बड़े नक्सली हमलों में रहा है शामिल

नवीन यादव नक्सली आत्मसमर्पण

2011 में लातेहार के गारू में इंदर सिंह नामधारी के काफिले पर हुए हमले में भी था शामिल

रांची : चतरा-पलामू के बॉर्डर मनातू के चक इलाके में बुधवार को 25 लाख के इनामी नवीन उर्फ सर्वजीत यादव ने पुलिस पदाधिकारियों के समक्ष आत्मसमर्पण कर दिया। वह चतरा जिले के प्रतापपुर इलाके का रहने वाला है। पुलिस को काफी लंबे समय से इसकी तलाश थी।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

नवीन यादव झारखंड-बिहार में हुए 60 से अधिक बड़े नक्सली हमले में शामिल था। इसके खिलाफ दोनों राज्यों के कई थानों में 100 से भी अधिक मामले हैं। पहले सरकार ने नवीन पर 15 लाख का इनाम रखा था लेकिन फिर बाद में उसे बढ़ाकर 25 लाख रुपये कर दिया। जनवरी 2019 में नवीन यादव की पलामू के रेड़मा में 18.5 एकड़ और चतरा के प्रतापपुर में 12.78 एकड़ जमीन भी जब्त की गयी थी।

नवीन नक्सलियों के गढ़ बूढ़ा पहाड़ और छकरबंधा के इलाके में सक्रिय था। बताया जा रहा है कि बूढ़ा पहाड़ इलाके में सुरक्षाबलों द्वारा चलाये जा रहे ऑपरेशन ऑक्टोपस से घबरा कर वह उस इलाके से भाग निकला था। वर्तमान में चतरा व पलामू के बॉर्डर इलाके में सक्रिय था। 2 दिन पहले चतरा के कुंदा इलाके में सुरक्षा बलों के साथ हुई मुठभेड़ में भी नवीन यादव शामिल था, जहां से बच कर निकल भागा था। सुरक्षाबलों की बढ़ती दबिश से घबरा कर उसने आत्मसमर्पण कर दिया।

नवीन यादव बूढ़ा पहाड़ के इलाके में संदीप यादव और विमल यादव के बाद तीसरा सबसे बड़ा माओवादी चेहरा था। जून 2016 में औरंगाबाद गया सीमा पर बड़ा नक्सल हमला हुआ था। इसमें 10 कोबरा के जवान शाहिद हुए थे। इस हमले में माओवादियों का नेतृत्व नवीन यादव ही कर रहा था।

साल 2011 में लातेहार के गारू में झारखंड के पहले विधानसभा अध्यक्ष इंदर सिंह नामधारी के काफिले पर हमला हुआ था। इस हमले में 11 जवान शहीद हुए थे। साल 2012 में माओवादियों ने गढ़वा के भंडरिया के इलाके में पुलिस पर हमला किया था। उस हमले में थाना प्रभारी समेत 12 जवान शहीद हुए थे। इन दोनों हमले में माओवादियों का नेतृत्व नवीन यादव ही कर रहा था।

नवीन यादव नक्सली आत्मसमर्पण