Breaking :
||पलामू: ट्रैक्टर की चपेट में आने से बाइक सवार इंटर के परीक्षार्थी की मौत||पलामू DAV के बच्चों की बस बिहार में पलटी, दर्जनों छात्र घायल||पलामू: पिछले 13 माह में सड़क दुर्घटना में 225 लोगों की मौत पर उपायुक्त ने जतायी चिंता||सदन की कार्यवाही सोमवार सुबह 11 बजे तक के लिए स्थगित||JSSC परीक्षा में गड़बड़ी मामले की CBI जांच कराने की मांग को लेकर विधानसभा गेट पर भाजपा विधायकों का प्रदर्शन||लातेहार: 10 लाख के इनामी JJMP जोनल कमांडर मनोहर और एरिया कमांडर दीपक ने किया सरेंडर||युवक ने थाने की हाजत में लगायी फां*सी, परिजनों ने लगाया हत्या का आरोप||लातेहार में 23 फ़रवरी को लगेगा रोजगार मेला, विभिन्न पदों पर होगी बंम्पर भर्ती||अब सात मार्च तक न्यायिक हिरासत में रहेंगे पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन||पलामू में 16 वर्षीय किशोर का मिला शव, हत्या की आशंका, सड़क जाम
Saturday, February 24, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

झारखंड: जेनेरिक दवा खरीद में 200 करोड़ का घोटाला, सरयू राय ने की CBI जांच की मांग

झारखंड जेनेरिक दवा घोटाला

रांची : जमशेदपुर विधायक सरयू ने आरोप लगाया है कि झारखंड में जेनेरिक दवाओं की खरीद में करीब 200 करोड़ का घोटाला हुआ है। गुरुवार को उन्होंने सीबीआई के आईजी से रांची स्थित उनके कार्यालय में मुलाकात की और सीबीआई निदेशक को एक ज्ञापन सौंपा।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

उन्होंने आरोप लगाया कि झारखंड में जेनेरिक दवाओं की खरीद में 150 से 200 करोड़ रुपये का घोटाला हुआ है। यह घोटाला भारत सरकार की दवा निर्माता कंपनियों और राज्य के स्वास्थ्य मंत्री की सांठगांठ के कारण हुआ है। वर्ष 2020 में स्वास्थ्य विभाग ने दवाओं की थोक खरीद के लिए खुली निविदा निकाली थी। विभाग ने न्यूनतम दर वाले आपूर्तिकर्ता को सूचित किया कि वे निर्धारित दरों पर दवाओं की आपूर्ति के लिए विभाग से अनुबंध कर अतिशीघ्र दवाओं की आपूर्ति करें।

इस बीच भारत सरकार की दवा बनाने वाली कंपनियों ने स्वास्थ्य मंत्री को प्रभावित किया कि विभाग उनसे दवा खरीदे। मंत्री ने टेंडर से निर्धारित न्यूनतम दर पर दवा खरीदने के बजाय विभाग में ज्ञापन बनवाया कि भारत सरकार की पांच दवा निर्माता कंपनियों से निर्धारित दर पर दवा खरीदी जाये। इस ज्ञापन को मंत्रिपरिषद को भेजकर स्वीकृति ली और टेंडर रेट से तीन से चार गुना अधिक दर पर दवा खरीदी। इन कंपनियों को फायदा पहुंचाया, जिससे सरकारी खजाने को 150 करोड़ से ज्यादा का नुकसान हुआ।

विधायक सरयू राय ने सीबीआई निदेशक से मांग की है कि स्वास्थ्य मंत्री, झारखंड सरकार की मिलीभगत से भारत सरकार की दवा कंपनियों की संलिप्तता और सरकारी धन के गबन की भूमिका की जांच करायी जाये।

झारखंड जेनेरिक दवा घोटाला