Breaking :
||दुमका में फिर पेट्रोल कांड, प्रेमिका और उसकी मां पर पेट्रोल डाल कर प्रेमी ने लगायी आग||छत्तीसगढ़ में पुलिस के साथ मुठभेड़ में चार नक्सली ढेर, शव बरामद||UP राज्यसभा चुनाव में BJP के आठों उम्मीदवारों ने की जीत हासिल||माओवादी टॉप कमांडर रविंद्र गंझू के दस्ते का सक्रिय सदस्य ढेचुआ गिरफ्तार||पलामू: तूफान और बारिश ने मचायी तबाही, दो छात्रों की मौत, कहीं गिरे पेड़ तो कहीं ब्लैकआउट||झारखंड के 4 IAS अधिकारियों का तबादला, JPSC के सचिव का भी हुआ ट्रांसफर||झारखंड में 23 IPS अफसरों का तबादला, अंजनी अंजन बने रांची के ग्रामीण एसपी||पलामू: ग्रामीण डॉक्टर का अपहरण, मरीज को दिखाने के बहाने क्लिनिक में आये थे अपराधी||Jharkhand Budget: बाबूलाल मरांडी ने कहा- बजट में जन कल्याणकारी योजनाओं का समावेश नहीं||विधानसभा में 1.28 लाख करोड़ का बजट पेश, 2 लाख तक के कृषि ऋण होंगे माफ़, जानिये सरकार की अन्य घोषणायें
Wednesday, February 28, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

ईडी के निशाने पर झारखंड के 17 नेता-विधायक, सभी थे इंजीनियर वीरेन्द्र राम के संपर्क में…

रांची : प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ग्रामीण विकास विभाग के मुख्य अभियंता वीरेंद्र राम से लगातार पूछताछ कर रहा है। झारखंड के 16-17 नेता-विधायक मुख्य अभियंता वीरेंद्र राम के संपर्क में थे। टेंडर को लेकर सभी उनके संपर्क में थे। इनमें दो महिला विधायक भी शामिल थीं, जिनकी वीरेंद्र राम से लगातार और लंबी बातचीत होती थी। सभी ईडी के निशाने पर हैं।

इसके अलावा और भी कई अन्य वरिष्ठ अधिकारी हैं जो नियमित रूप से टेंडरों के प्रबंधन के लिए वीरेंद्र राम से बात करते थे। जो पांच फीसदी कमीशन नहीं देगा उसे काम नहीं मिलेगा। एक अफसर वीरेंद्र राम को ग्रामीण विकास विभाग के एक ऐसे टेंडर के बारे में निर्देश दिया है। वह ईडी के साथ मौजूद हैं। ईडी ने जांच के दौरान वीरेंद्र राम के फोन को सर्विलांस पर रखकर यह जानकारी जुटायी है।

जांच के दौरान, ईडी ने वीरेंद्र राम और कई अन्य लोगों को निगरानी में रखा था और उनकी फोन पर बातचीत को पकड़ा था। नेता-विधायक वीरेंद्र राम से नियमित बात करते थे। उन्हें अपनी पसंद के ठेकेदारों का पक्ष लेने और अन्य प्रतिभागियों को निविदा प्रक्रिया से बाहर करने और अयोग्य घोषित करने के लिए कहते सुना गया। ईडी वीरेंद्र राम को पुलिस रिमांड में लेकर पूछताछ कर रही है। ईडी ने वीरेंद्र राम को कई ऑडियो भी सुनाये हैं। उनहोंने ईडी को कई लोगों की पहचान भी बतायी है। ईडी ने जांच में पाया है कि वीरेंद्र राम ने कई राजनेताओं और नौकरशाहों की मिलीभगत से टेंडर घोटाले के मास्टरमाइंड के रूप में काम किया।

गौरतलब है कि ईडी ने 22 फरवरी को वीरेंद्र राम के आवास पर छापेमारी की थी। ईडी ने पूछताछ के दौरान देर रात उन्हें रांची स्थित उनके अशोक नगर स्थित आवास से गिरफ्तार किया था। ईडी ने लगातार दो दिनों तक वीरेंद्र राम के 24 ठिकानों पर छापेमारी की, जिसमें 30 लाख कैश और डेढ़ करोड़ से ज्यादा के गहने बरामद किये गये। टेंडर से जुड़े मामले में ईडी उन्हें रिमांड पर लेकर पूछताछ कर रही है।

झारखंड ED इंजीनियर वीरेन्द्र